आधार कार्ड क्या है? What is AADHAR CARD in hindi । AADHAR CARD kya hai hindi me।

आधार कार्ड क्या है? What is AADHAR CARD in hindi । AADHAR CARD kya hai hindi me।


आज के इस आर्टिकल में हम आधार कार्ड के बारे में विस्तार से जानेंगे जैसे आधार कार्ड क्या है ?आधार कार्ड की क्या विशेषतायें हैं? आधार कार्ड  के क्या उपयोग हैं? भारत  की सरकार द्वारा भारत के  प्रत्येक व्यक्ति को आधार कार्ड रखना आवश्यक कहा गया है। आजकल लगभग हर काम में आधार कार्ड की आवश्यकता पढ़ती है। आखिर आधार कार्ड  इतना आवश्यक क्यों हो गया है आइये जानते हैं- 

आधार कार्ड क्या है? What is AADHAR CARD in hindi । AADHAR CARD kya hai hindi me।

Aadhar Card Official Website - Click Here

Table Of Content -

  • आधार कार्ड क्या है ?
  • आधार की विशेषताएं ?
  • आधार कार्ड का उपयोग ?

आधार कार्ड क्या है?

आधार संख्‍या प्राधिकरण द्वारा निर्धारित सत्यापन प्रक्रिया को पूरा करने के उपरांत यूआईडीएआई द्वारा भारत के सभी निवासियों को जारी की जाने वाली 12 अंकों की एक रैंडम संख्‍या है। किसी भी आयु का कोई भी व्यक्ति जो भारत का निवासी है, बिना किसी लिंग भेद के आधार संख्या प्राप्ति‍ हेतु स्वेच्छा से नामांकन करवा सकता है। नामांकन के इच्‍छुक व्यक्ति को नामांकन प्रक्रिया के दौरान, जो पूरी तरह से लागत रहित है, न्‍यूनतम जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक सूचना उपलब्‍ध करवानी होती है। किसी भी व्यक्ति को आधार हेतु नामांकन केवल एक बार करना होता है और डी-डुप्‍लिकेशन प्रणाली के जरिए विशिष्‍टता प्राप्‍त की जाती है!

जनसांख्यिकीय सूचना- नाम, जन्मतिथि‍ (सत्‍यापित) अथवा आयु (घोषित), लिंग, पता, मोबाइल नंबर (ऐच्छिक) और ईमेल आईडी (ऐच्छिक)

बॉयोमीट्रिक सूचना- दस उंगलियों के निशान, दो आइरिस स्कैन और चेहरे की तस्वीर

जानें- अपने मोबाइल से जॉब कैसे ढूंढें। 

आधार की विशेषताएं (Aadhar Features in Hindi )-

अद्वितीयता (Unique)-

इसे जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक डी-डुप्‍लीकेशन की प्रक्रिया से हासिल किया गया है। डी-‍डुप्‍लीकेशन प्रक्रिया में यह जांचने के लिए कि क्‍या व्‍यक्ति पहले से ही डेटा बेस में है अथवा नहीं; नामांकन प्रक्रिया के दौरान एकत्र की गई निवासी की जनसांख्यिकीय/बॉयोमीट्रिक जानकारी को यूआईडीएआई के डेटाबेस के रिकार्ड के साथ तुलना की जाती है। निवासी के आधार हेतु केवल एक बार ही नामांकन की आवश्‍यकता है और डी-डुप्‍लीकेशन के बाद केवल एक आधार ही सृजन किया जाएगा। यदि निवासी एक से अधिक बार नामांकन करवाता है तो उत्‍तरवर्ती नामांकन रद्द कर दिए जाएंगे।

पढ़ें- उपग्रह क्या है?

पोर्टेबिलिटी (Portability)-

आधार राष्ट्रव्यापी पोर्टेबिलिटी प्रदान करता है क्‍योंकि यह कहीं भी ऑन-लाईन प्रमाणीकृत किया जा सकता है। यह महत्वपूर्ण है क्‍योंकि लाखों भारतीय एक राज्य से दूसरे राज्‍य अथवा ग्रामीण क्षेत्र से शहरी केंद्र आदि में प्रवास करते हैं।

रेण्‍डम संख्या (Random Number)-

आधार संख्या रेण्‍डम नम्‍बर है जिसमें किसी प्रकार की आसूचना नहीं है। नामांकन के इच्‍छुक व्‍यक्ति को नामांकन प्रक्रिया के दौरान जनसांख्यिकीय और बायोमीट्रिक जानकारी उपलब्‍ध करवानी होती है। आधार नामांकन प्रक्रिया में जाति, धर्म, आय, स्वास्थ्य, भूगोल इत्‍यादि जैसे विवरण को संग्रहित नहीं किया जाता है।

स्केलेबल प्रौद्योगिकी संरचना (Scalable Technology Structure)-

यूआईडी संरचना अनावृत और स्केलेबल है। निवासी के डेटा को केन्द्रीकृत रूप में संग्रहीत किया जाता है और देश में कहीं से भी उसका ऑनलाइन प्रमाणीकरण किया जा सकता है। एक दिन में 10 करोड प्रमाणीकरण करने के लिए आधार प्रमाणीकरण सेवा का गढन किया गया है।

जानें- A TO Z FULL FORMS

ओपन स्रोत प्रौद्योगिकियां (Open source technologies)-

ओपन सोर्स वास्‍तुकला विशिष्‍ट कम्प्यूटर हार्डवेयर, विशिष्ट भंडारण, विशिष्ट ओएस, विशिष्ट डेटाबेस विक्रेता या किसी विशिष्ट विक्रेता प्रौद्योगिकियों पर निर्भरता को प्रतिबंधित करता है। इस प्रकार के एप्‍लीकेशन खुला स्‍त्रोत या खुली प्रौद्योगिकी का उपयोग कर निर्मित और एक विक्रेता तटस्‍थ ढंग से स्‍केलेविलिटी को एड्रेस करने और एक ही आवेदन के भीतर विषम हार्डवेयर के सह-अस्‍तित्‍व के लिए संरचित किए जा रहे हैं।

आधार कार्ड का उपयोग (Use of aadhar card)

भारत सरकार बडी संख्‍या में समाजिक कल्याणकारी योजनाओं का वित्‍त पोषण करती है जो कि समाज के गरीब और सबसे कमजोर वर्गों की ओर केंद्रित होती हैं। आधार और इनके मंच सरकार के लिए उसके कल्‍याण तंत्र को कारगर बनाने के लिए और इस प्रकार पारदर्शिता और सुशासन सुनिश्चित करने के लिए एक अनूठा अवसर प्रदान करते हैं।

सरकारों एवं सेवा एजेंसियों हेतु (For governments and service agencies)-

अपने पूरे डेटा-बेस के विपरीत केवल वे जनसांख्यिकीय और बायोमीट्रिक विशेषज्ञताओं की डी-डुप्‍लीकेटिंग के पश्‍चात यूआईडीएआई निवासियों के लिए आधार नम्‍बर जारी करता है। आधार प्रमाणीकरण विभिन्‍न योजनाओं के तहत् दोहराव के उन्‍मूलन में सक्षम है और इससे सरकारी खजाने में पर्याप्‍त बचत होने की उम्‍मीद है। यह सरकारों को लाभार्थियों के सटीक डेटा प्रदान करने, प्रत्यक्ष लाभ कार्यक्रम को सक्षम करने और सरकारी विभागों/सेवा प्रदाताओं को समन्वय और विभिन्न योजनाओं के अनुकूलन करने की अनुमति प्रदान करता है। लाभार्थियों को सत्यापित करने और लाभों के लक्षित वितरण को सुनिश्चित करने में कार्यान्वयन एजेंसियों को आधार सक्षम करेगा।

निवासियों के लिए (For residents)-

आधार प्रणाली निवासियों को देश भर में ऑनलाईन पहचान सत्यापन का एकमात्र स्‍त्रोत प्रदान करती है। निवासियों का एक बार नामांकन हो जाने पर वे आधार नम्‍बर का इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से उपयोग कर अपनी पहचान को सत्‍यापित और प्रमाणित कर सकते हैं। इसके द्वारा नागरिक प्रत्‍येक बार सेवाओं जैसे बैंक खाता खोलने के लिए, ड्राइविंग लाइसेंस आदि प्राप्‍त करने हेतु बार-बार पहचान समर्थन दस्‍तावेजों को उपलब्‍ध कराने की परेशानी से बच सकते हैं। पहचान का एक पोर्टेबल सबूत, जिसे कभी भी कहीं भी ऑनलाईन आधार प्रमाणीकरण के माध्‍यम से सत्‍यापित किया जा सकता है, उपलब्‍ध करवा कर आधार प्रणाली ने ऐसे लाखों लोगों को, जो देश के एक भाग से दूसरे भाग में चले जाते हैं, गतिशीलता प्रदान की है।

आज के इस आर्टिकल में आपने आधार कार्ड से जुडी महत्वपूर्ण जानकारिओं के बारे में विस्तार से जाना,जो भारत के नागरिक होने के नाते आप सभी को जानना अनिवार्य है। 

उम्मीद है यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी। अगर आपको आर्टिकल पसंद आये तो इसे शेयर जरुर करें।  

30 AprilSTUDY POINT & CAREER