नोबेल पुरस्कार के बारे में रोचक तथ्य (Interesting facts about the Nobel Prize)

नोबेल पुरस्कार के बारे में रोचक तथ्य । Nobel Puraskar Interesting Facts In Hindi

इस पोस्ट में आपको नोबेल पुरुस्कार के बारे में रोचक जानकारी प्राप्त होगी जिसे आप शायद नही जाने होंगे नोबेल पुरुस्कार के बारे में रोचक तथ्य जानने के लिए पूरा आर्टिकल पढ़े

नोबेल पुरस्कार शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन, चिकित्सा विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में विश्व का सर्वोच्च पुरस्कार है इस पुरस्कार में 10लाख डॉलर राशि के साथ के प्रशस्ति-पत्र भी दिया जाता है। 



Interesting facts about the Nobel Prize


Nobel prize rochak tathya in hindi

  1. ये पुरस्कार महान आविष्कारक, व्यापारी, कैमिस्ट स्वीडिश नागरिक अल्फे्रड नोबेल के नाम पर दिया जाता है।

  2. नोबेल पुरस्कार की शुरुआत दिसंबर, 1901 में हुई। तब बतौर पुरस्कार राशि पांच लाख रुपए नकद दिए जाते थे। लेकिन अब नोबेल पुरस्कार विजेता को 11.18 लाख डॉलर यानी करीब 8.15 करोड़ रुपए दिए जाते हैं । ये राशि सन 2020 से बढ़ाई गयी है।

  3. पुरस्कार राशि के साथ 24 कैरेट सोने की परत से बने 175 ग्राम वजन का पदक भी दिया जाता है। इसमें एक तरफ अल्फे्रड नोबेल की छवि अंकित होती है।

  4. पहले यह केवल 5 क्षेत्रों अर्थात शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन एवं चिकित्सा के क्षेत्र में दिया जाता था परन्तु 1969 से अर्थशास्त्र के क्षेत्र में भी दिया जाने लगा है। अर्थात नोबेल पुरस्कार कुल छः क्षेत्रों में दिया जाता है।

  5. अल्फ्रेड नोबेल (1833-1896) का जन्म 21 अक्टूबर 1833 को स्टॉकहोम, स्वीडन में हुआ था. वह डायनामाइट का आविष्कार करने के लिए जाने जाते हैं. नोबेल ने अपने नाम से 355 पेटेंट रजिस्टर्ड कराये थे लेकिन उनका सबसे मशहूर अविष्कार डायनामाइट है।

  6. नोबेल पुरस्कार राशि हर साल बदलती है यह राशि क्योंकि पुरस्कार राशि नोबल फण्ड में जमा धन के निवेश रिटर्न पर निर्भर करती है।

  7. वर्ष 1901 से 2018 तक की अवधि में 590 नोबेल पुरस्कार 935 लोगों को दिए गये हैं।

  8. मलाला यूसुफजई ने सबसे कम उम्र के नोबेल पुरस्कार जीता था जिन्हें 2014 में केवल 17 वर्षों की उम्र में शांति पुरस्कार मिला था।

  9. भौतिक विज्ञान में पहला नोबेल पुरस्कार 1901 में जर्मनी के विलहम कॉनरैड रॉटजन को दिया गया था।

  10. मैरी क्यूरी दो बार नोबेल जीतने वाली अकेली महिला हैं।

  11. गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर इस पुरस्कार को जीतने वाले पहले भारतीय थे. उन्हें साल 1913 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था।

  12. वर्ष 1901 और 2018 के बीच कुल 50 महिलाओं को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

  13. अर्थशास्त्र के लिए 1998 का नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रोफेसर अमर्त्य सेन पहले एशियाई हैं।

  14. भौतिक शास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले भारतीय डॉ. चंद्रशेखर वेंकटरमन थे।

  15. महात्मा गांधी को आज तक नोबेल पुरस्कार नहीं मिला. उन्हें यह पुरस्कार न दिया जाना नोबेल पुरस्कारों के इतिहास सबसे बड़ी भूल मानी जाती है. हालांकि महात्मा गांधी 5 बार इस पुरस्कार के लिए नामित किए जा चुके हैं।

      नोबेल प्राइज से जुड़ीं कुछ रोचक और महत्वपूर्ण बातें:-

  16. रवींद्रनाथ ठाकुर, साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले पहले भारतीय थे। उन्हें यह पुरस्कार 1914 में “गीतांजलि” के लिए दिया गया था।

  17. लियोनिड हरविज ने वर्ष 2007 में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया था और वह 90 वर्ष की उम्र में यह पुरस्कार पाने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति बने।

  18. 27 नवंबर 1985 को, अल्फ्रेड नोबेल ने अपनी अंतिम वसीयत पर हस्ताक्षर किये थे और जिसके तहत उन्होंने अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, चिकित्सा, साहित्य और शांति के क्षेत्र में पुरस्कारों को  लिए देने का फैसला किया। वर्ष 1968 में स्वीडन की सेंट्रल बैंक ने नोबेल की याद में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में पुरस्कार शुरू किया था।

  19. एक नोबेल पुरस्कार ज्यादा से ज्यादा 3 लोगो को ज्वाइंट रूप से दिया जा सकता है इससे ज्यादा को नही।

  20. Nobel Prize जीतने वाले को तीन चीजें दी जाती है:-
    -Nobel Diploma,
    -Nobel Medal,
    -Nobel Prize amounts.

  21. नोबेल जीतने वाले नामों की घोषणा पहले ही एडवांस में कर दी जाती है लेकिन नोबेल पुरस्कार हर साल 10 दिसंबर को ही दिया जाता हैं इसी दिन Alfred Nobel की मृत्यु हुई थी।

  22. चार ऐसे लोग भी हैं जिन्हें दो बार नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है. अमेरिका के जॉन बारडेन को दो बार भौतिकी के लिए पुरस्कार मिला. पहली बार 1956 में ट्रांजिस्टर के आविष्कार के लिए और दूसरी बार 1972 में सुपरकंडक्टिविटी थ्योरी के लिए. केमिस्ट्री में दो बार पुरस्कार मिला ब्रिटेन के फ्रेडेरिक सैंगर को. पहली बार 1958 में इंसुलिन की संरचना को समझने के लिए और दूसरी बार 1980 में।
इस पोस्ट में आपने नोबेल पुरस्कार से जुडी महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में जाना ,नोबेल पुरस्कार के बारे में जानना परीक्षा की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है साथ ही सामान्य ज्ञान की सृष्टि से भी यह एक महत्वपूर्ण टॉपिक है 

उम्मीद करता हूँ कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी, अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो पोस्ट को शेयर जरुर करें.
    >>गंगा नदी के 40 रोचक तथ्य