स्पूतनिक वी क्या है? (What is SPUTANIK-V)। SPUTANIK-V KYA HAI IN HINDI ।

Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

स्पूतनिक वी क्या है(What is sputanik-V), कैसे काम करती है(How its work)

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे - स्पूतनिक वी क्या है? स्पूतनिक वी कैसे काम करती है?कौन-सी  वैक्सीन कितनी प्रभावी ?तीनों वैक्सीन क्यों एक दूसरे से अलग स्पूतनिक वी की क्या कीमत हो सकती है? कोरोना महामारी ने सभी के जीवन को प्रभावित किया है । इसके रोकथाम के लिए सभी देशों के स्वास्थ्य एजेंसियों ने भरसक प्रयास किये ,इसी दिशा में रूस के प्रयास से स्पुतनिक वी बनाया गया।  स्पुतनिक वी के बारे में पूरा जानने के इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़ें।


                              स्पूतनिक वी क्या है? (What is SPUTANIK-V)।  SPUTANIK-V KYA HAI IN HINDI ।



Table Of Content - 

  • स्पूतनिक वी क्या है 
  • स्पूतनिक वी कैसे काम करती है? 
  • कौन वैक्सीन कितनी प्रभावी ? 
  • तीनों वैक्सीन क्यों एक दूसरे से अलग 
  • स्पूतनिक वी की क्या कीमत हो सकती है?

स्पूतनिक वी क्या है (What is Sputnik V Vaccine)-

स्पुतनिक वी वैक्सीन के आयातित खुराकों की पहली खेप 1 मई को भारत में उतरी और 13 मई, 2021 को केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला, कसौली से इसे विनियामक मंजूरी मिली। कंपनी की ओर से कहा गया है कि आगामी महीनों में आयातित वैक्सीन डोज की अतिरिक्त खेप आने की उम्मीद है। कोरोना का मुकाबला करने के लिए भारत में कोवैक्सीन और कोविशील्ड इस्तेमाल में लाई जा रही है। इसके साथ ही एक और खुशखबरी यह है कि रूस की वैक्सीन स्पूतनिक वी को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए डीसीजीआई ने भी मंजूरी दे दी है।

स्पूतनिक वी कैसे काम करती है? ( How to work Sputnik V Vaccine )-

आर्टिफिशियल ढंग से बना ये टीका कोरोना वायरस में पाए जाने वाले उस कांटेदार प्रोटीन की नकल करती है, जो हमारे शरीर पर सबसे पहला हमला करता है. ये वैक्सीन शरीर में पहुंचते ही शरीर का इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाता है और इस तरह से हमारे भीतर एंटीबॉडी पैदा हो जाती है. चूंकि वैक्सीन में डाले गए वायरस असल नहीं होते, इसलिए रिपोर्ट के मुताबिक इससे किसी तरह के संक्रमण का खतरा नहीं होता है.

कौन-सी वैक्सीन कितनी प्रभावी। (Which vaccine is so effective )-

भारत बायोटेक की Covaxin ने फेज 3 क्लिनिकल ट्रायल में 81 फीसद प्रभावी थी। जबकि सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की Covishield की एफेकसी 62 फीसद दर्ज हुई थी। हालांकि डेढ़ डोज देने पर प्रभाव क्षमता में 90 फीसद का इजाफा हुआ। फेज 3 ट्रायल के अंतरिम नतीजों में स्पूतनिक वी वैक्‍सीन करीब 92 फीसद प्रभावी है।

रेमडेसिविर (REMDESIVIR )क्या है | 

प्लाज्मा थेरेपी KYA HAI |

तीनों वैक्सीन क्यों एक दूसरे से अलग(Why all three vaccines differ from each other)-

स्पूतनिक वी के निर्माताओं का कहना है कि इसे भी 2-8 डिग्री सेल्सियस तापमान के बीच स्‍टोर किया जा सकता है. यह वैक्‍सीन भी दो डोज में दी जाती है।कोविशील्ड की  दो डोज के बीच का अंतराल चार से आठ हफ्तों की का है और इसे इसे स्‍टोर करने के लिए सब जीरो तापमान (शून्‍य से कम) की जरूरत नहीं है।कोवैक्सीन की दो डोज 4-6 हफ्तों के अंतराल पर दी जाती है। इसे भी 2-8 डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान पर स्‍टोर कर सकते हैं।

स्पूतनिक वी की क्या कीमत हो सकती है?( How much can Sputnik V cost?)-

फिलहाल सरकारी अस्पतालों में कोवैक्सिन और कोविशील्ड, दोनों ही वैक्सीन्स मुफ्त लग रही हैं, जबकि निजी अस्पतालों में इसका शुल्क है. कंपनी की ओर से कहा गया है कि रूस से आयात की गई कोरोना की वैक्सीन स्पुतनिक वी(Sputnik V) की कीमत वर्तमान में खुदरा बाजार में अधिकतम 948 रुपये है, जिसमें प्रति डोज 5 प्रतिशत जीएसटी भी शामिल है। हालांकि, भारत में इस वैक्सीन का उत्पादन शुरू होने पर इसकी कीमत कम होने की संभावना है।

आज के इस पोस्ट में आपने  स्पुतनिक वी(Sputnik V) से जुडी इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में जाना जो परीक्षा की सृष्टि से एक महत्वपूर्ण प्रश्न तो है ही साथ ही स्वास्थ्य  की दृष्टि सभी एक महत्वपूर्ण जानकारी है। 

उम्मीद है यह पोस्ट आप के लिए लाभदायक सिद्ध होगी अगर पोस्ट अच्छी लगे तो  अपने दोस्तों और परिवार वालो के साथ शेयर करके एक अच्छा और नेक काम जरुर करें |


इसे Whatsapp, Telegram, Facebook और Twitter पर शेयर करें।

0 Comments:

Post a Comment

हमें आपके प्रश्नों और सुझाओं का इंतजार है |

Popular Posts