Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

भारत के 10 महान वैज्ञानिक और उनके खोज (10 great scientists of India and their discoveries in Hindi) ।

भारत के 10 महान वैज्ञानिक और उनके खोज |10 great scientists of India and their discoveries in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आप कोभारत  महान वैज्ञानिकों के नाम और उनकी खोज  के बारे में बताने वाले है | विज्ञान  के इतिहास में कई ऐसे महान वैज्ञानिक हुए है जिन्होंने भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में विज्ञान की नीव रखी। जिन्होंने  गणित, भौतिक एवं रसायन शास्त्र, खगोल विद्या, चिकित्सा विज्ञान आदि में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। पर आज के समय में हम उन महान वैज्ञानिक और उनके खोजो को भूलते जा रहे है तो आज के इस आर्टिकल में  हम कुछ महान भारतीय वैज्ञानिक और उनके खोज और चिंतन तथा वैज्ञानिक पद्धति से मानव जीवन में आए क्रांतिकारी परिवर्तनों के बारे में जानेंगे।

                               वैज्ञानिक और उनके खोज से जुड़े सवाल प्राय: प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे-UPSC,STATE PCS,RRB,NTPC,RAILWAY,SSC,BANKING PO,BANKING CLERK इत्यादि में पूछे जाते हैं।.वैज्ञानिक और उनके खोज से जुड़ी जरुरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़ें। 

भारत के 10 भारतीय वैज्ञानिकों के नाम और उनकी खोज

1. राजा दन्ना-

इनका मूलभूत योगदान नाभिकीय विखण्डन के क्षेत्र में है। उन्होंने परमाणु ऊर्जा को बिना किसी हानिकारक प्रभाव के नियंत्रित करने और उसका शांतिपूर्ण प्रयोग करने की दिशा में कार्य किया। पोखरण परमाणु परीक्षण रामन्ना का ही विचार था। देश के परमाणु रिएक्टर, अप्सरा, सिरस और पूर्णिमा की रूपरेखा और स्थापना में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी।

2. शिविर कुमार -

 मित्र ये आइनोस्फीयर के अध्ययन में अपने योगदान के लिए प्रसिद्ध हैं। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि रात में आकाश गहरा काला लगने के स्थान पर धूमिल काला क्यों लगता है? उनके विचार से इसका कारण आयन मंडल की एक परत में आयंस की उपस्थिति का होना है, जो प्रकाश को फैलाते हैं। इसे "रात्रि आकाश की आलोक दीप्ति' कहते हैं। उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तक 'अपर एटमॉस्फीयर पूरी दुनियाँ में सराही गयी है।

3. सत्येन्द्रनाथ बोस -

इन्होंने विकिरण के व्यवहार को समझाने के लिए एक नए प्रकार की सांख्यिकी (बोस सांख्यिकी) के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी । इसी तारतम्य में मूल तत्व के कण जैसे फोटोन्स और अल्फा कण जो बोस सांख्यिकी के सिद्धांत को मानते हैं उन्हें बोसोन्स कहा गया घोस ने भौतिकी की अन्य शाखाओं में जैसे एक्स रे, किस्टलोग्राफी और थर्मोल्युिमिनिसेन्स (ऊष्मा गातिकी) पर भी प्रयोग किए। उनके द्वारा बनाया गया रासायनिक पदार्थ आँखों में दवाई के रूप में आज तक जाना जाता है।

4. के. एस. कृष्णन -

वे केवल वैज्ञानिक ही नहीं भौतिकशास्त्री एवं दार्शनिक भी थे। कृष्णन ने ठोस पदार्थों में अणुओं की सुंदर क्रमबद्धता का तथा उन शक्तियों का अध्ययन किया जो अणुओं या परमाणुओं को व्यवस्थित रखती हैं। उन्होंने किसी गरम पदार्थ से निकलने वाले इलेक्ट्रॉन्स के व्यवहार एवं नियंत्रण प्रक्रिया का अध्ययन किया।

5. बीरबल साहनी -

ये जीवाश्म वनस्पति विज्ञानी थे। उन्होंने फर्न, कोनिफर्स और जीवाश्म पौधों पर शोध कार्य किया। उनके द्वारा कुछ नए जीन्स की खोज की गयी। उनके कुछ आविष्कारों ने प्राचीन पौधों और आधुनिक पौधों के बीच विकास क्रम के संबंध को समझने में मदद की। उन्होंने एक नए समूह के जीवाश्म पौधों (जिम्नोस्पर्म) की खोज की

6. जॉन वर्डन सैडरसन हाल्डेन -

ये जन्म से अंग्रेज थे मगर बाद में उन्होंने भारत की नागरिकता ले ली थी। इन्होंने अनेक विषयों जैसे शरीर क्रिया विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान, जीवविकास, आनुवांशिकी, जीव रसायन, गणित और कॉस्मोलॉजी आदि में मौलिक योगदान दिया। वे स्वयं पर प्रयोग परीक्षण करने के लिए प्रसिद्ध थे।

7. प्रफुल्ल चंद्र रे -

इन्हें भारत के रसायन उद्योग का प्रर्वतक माना जाता है। उन्होंने भारत में रसायन शास्त्र के शोध केन्द्रों का विकास किया। 1896 में मरक्यूरस नाइट्रेट की खोज रसायन विज्ञान को उनका मुख्य योगदान है।

8.सालिम अली -

वे पक्षी विज्ञानी के रूप में जाने जाते हैं। उन्होंने "बुक ऑफ इंडियन बईस' लिखी है जिसमें पक्षियों की प्रत्येक जाति का सुंदर वर्णन तथा चित्र भी हैं। उनके द्वारा डिलन रिप्ले के साथ लिखी गयी पुस्तक "हँड बुक द बर्डस आफ इंडिया एण्ड पाकिस्तान (दस खण्ड इस उपमहाद्वीप में पाए जाने वाले पक्षियों की जानकारी देती है।

9.अन्ना मनी -

ये भारतीय मेटेरोलॉजिक संस्थान की डिप्टी डायरेक्टर थीं साथ ही रमन शोध संस्थान की अतिथि प्राध्यापक भी रहीं। इन्होंने हीरे तथा रूबी की स्पेक्ट्रो स्कोपी पर कार्य किया। इनके द्वारा पवन ऊर्जा को बढ़ावा देने की में भी महत्वपूर्ण कार्य किया गया।

10.आशिमा चटर्जी -

इनका जन्म 1917 में हुआ था। इन्होंने भारत में पाए जाने वाले औषधीय पौधों पर शोध किया। इन्होंने उन पौधों में पाए जाने वाले रसायन की औषधीय महत्ता को बताया जिससे इनका औद्योगिक उत्पादन हो पाया।

आज के इस पोस्ट में आपने भारत के 10 महान भारतीय वैज्ञानिक जिन्होंने विज्ञान की नीव डाली व अपना प्रमुख योगदान दिया.,उनके बारे में विस्तार से जाना ।वैज्ञानिक के नाम और खोज से जुड़े सवाल अक्सर  प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे-UPSC,STATE PCS,RRB,NTPC,RAILWAY,SSC,BANKING PO,BANKING CLERK और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं  में भी पूछा जाता है।

आशा करता हूँ कि इस पोस्ट में दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी ,अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो पोस्ट को शेयर जरुर करें।

Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

यूट्यूब चैनल देखने के लिए – क्लिक करें

Share -