छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश | Chhattisgarhi to Hindi to Chhattisgarhi 2023

Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

छत्‍तीसगढ़ी-हिन्‍दी शब्‍दकोश | Chhattisgarhi to Hindi | छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश

छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश (Chhattisgarhi to Hindi) - क्या आप govrnment gobs की तयारी कर है ,क्या आप छत्तीसगढ़ भाषा शब्दकोष पड़ना चाहते है तो आप बिलकुल सही पोस्ट पे आये है ,आज इस आर्टिकल में हम आपको भुत सरे एसे छत्तीसगढ़ शब्द के आर्थ बताने वाल्व जिससे आपको सिखाने ,जानने में कम से कम समय लगे एवं आपके तयारी में आपकी सहायता कर सके !



Chhattisgarhi to Hindi to Chhattisgarhi 2023


Chhattisgarhi to Hindi to Chhattisgarhi 2023

छत्तीसगढ़ महत्वपूर्ण शब्दों के अर्थ - यह हम आपको यह 1000 सब्दो के अर्थ बताने वाले ,आइये जानते है -



छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश अ -वाले शब्द -

  • अचरा – आंचल
  • अंजोर – उजाला, प्रकाश
  • अंधियारी रात – चांदनी रात
  • अंधियार – अंधेरा
  • अंधरौटी – रतौंधी
  • अंधेर – अन्याय
  • अइलाना – मुरझाना
  • इसने – ऐसे ही
  • अक्ति – अक्षय तृतीया
  • अकरस – पहली बारिश
  • अकरस जुताई – पहली बार बारिश के बाद खेत की जुताई करने
  • अगुवाना – आगे निकल जाना
  • अंगोरना – इंतजार करना
  • अघोरा – प्रतीक्षा
  • अघाना – तृप्त होना ,पेट भर कर खाना ,इच्छा शेष न रहना
  • तृप्त होना ,पेट भर कर खाना ,इच्छा शेष न रहना
  • अचोना – खाने के बाद मुंह हाथ होना
  • अजार – गंभीर बीमारी, तीव्र ज्वर, असाध्य रोग
  • अटकर / अटकरपचे – तीर तुक्के/ अंदाजा
  • अर्टरा – बड़े आकार का नींबू प्रजाति का फल
  • अंतलंग – शरारत, उपत्रों, उधम
  • अथान – अचार
  • अतलंगहा – अति उपद्रवी
  • अपखाया – स्वार्थी
  • अबक तबक – अति शीघ्र , किसी भी क्षण , मरणासन्न
  • अब्बड अकन – बहुत सा , जरूरत से ज्यादा
  • अबेर अबेरहा – देर , विलंब
  • अभीच – अभी की
  • अमचूर – आम का चूर्ण
  • अम्मठ – खट्टा
  • अमरईया – पहुंचाने वाला , आम का बाग
  • अमरना – पहुंचना
  • अरकट्टा – छोटा रास्ता , शॉर्टकट
  • डगनी – कपड़ा टांगने का बास का डंडा
  • अलकर – सुविधाजनक तंग या सकरा स्थान
  • अलकरहा – बेतुका , बेगड़ा
  • अल्लार / अल्लरहा – सुस्त
  • अलहन – मामूली दुर्घटना या अशुभ प्रसंग
  • नीमारना/अलहोरना – अनाज से कचरा अलग करना , छांटना
  • अलाल – सुस्त , अलसी
  • असकट लगना – उबना
  • अस्नान – स्नान, नहाना
  • आंच – ताप
  • आंटी – मकान के नीचे हिस्से में बना चबूतरा
  • आंठी – दही का थक्का
  • आगर उपराहा – अतिरिक्त
  • आमाजुडि – पेचिश
  • आरुग – पवित्र , शुद्ध
  • आरो लेना – टोह लेना
  • इब्बा – गिल्ली



  • उत्ता- जल्दी-जल्दी
  • उत्ती – पूर्व दिशा
  • उरमाल – रुमाल
  • उरिद – उड़द
  • उलान बाटी – सिर के बाल पालटी मारना
  • एक कनिक – थोड़ा सा
  • एक जुवरिया – 1 जून का कार्य , दोपहर के बाद का कार्य
  • एक पैया – पगडंडी पगडंडी
  • एक मई – मिला हुआ
  • एक हत्थी – एक ही हाथ में सुरक्षित
  • एसो + इस साल
  • एहवाती – सुहागिन
  • एठु – अकड़बाज, घमंडी
  • ओनहा – कपड़ा
  • आन्हारी – रवि फसल , चना
  • ओरवाती – छत्तीसगढ़
  • ओरयाना – पंक्ति में रखना
  • ओली – थैलेनुम आकृति जिसे साड़ी को कमर पर चारों और लपेटकर बनाया जाता है।
  • ओसकना – हवा / पानी का कम होना
  • ओसाना – अनाज से भूसा उड़ा कर अलग करना
  • ओडहर – बहाना

छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - क वाले शब्द 


  • कंडील – लालटेन
  • कंदई – पानी के पास रुकने वाला फूल पौधा
  • कांछा – पुराने पशु के बदले नया खरीदना
  • किंजरना – टहलना , घूमना
  • कइना – कन्या
  • कई पईत – बार-बार
  • काका दाई – दादी
  • कच लोहिया – कच्चा
  • कटवा – गले में पहनने का आभूषण / धान की पत्ती को काटने वाला कीड़ा
  • कडहा – कीड़ा लगा हुआ
  • गोदरी कथरी- पुराने कपड़ों को सील कर बनाया गया बिछाना
  • कंफपटा – टिड्डा
  • कनघटेर – सुनकर ना सुनने का दिखावा करने वाला /अनसुनी करने वाला
  • कनिहा – कमर
  • कन्हार – काली मिट्टी की भूमि
  • कन्नौजी – मिट्टी की कड़ाई
  • कपार – माथा
  • कपिला – काले रंग की गाय
  • कमर छठ – माता द्वारापुत्र एकल्याण के किए जाने वाला व्रत/ हलषष्ठी
  • कमियां – श्रमिक मजदूर
  • करगा – एक किस्म के धान में अन्य प्रकार का उगा हुआ धान
  • करछुल – बड़ी चम्मच
  • करपा – कटी हुई फसल के छोटे-छोटे बंडल
  • करमा – आदिवासियों का एक प्रमुख लोक नृत्य
  • करलई – व्यथित ,व्यस्था
  • करार- समझौता ,राजीनामा , किनारा
  • कलारी – धान के पुआल को उलट ने पलटने का बास जिसके एक सिरे पर लोहे का हुक लगा होता है।
  • कलेवा – पकवान
  • कसेली – दूध दुहने का बर्तन
  • किरीया खाना – सौगंध , कसम खाना
  • कुकरी कुकरा – मुर्गी मुर्गा
  • कुची – चाबी , ब्रश
  • कुटहा – लतखोर
  • कुटेला – लकड़ी का मुख्तार जो कपड़ा धोते समय काम में लाया जाता है
  • कुदारी – कुदाली
  • कुंदरा – घास फूस से बने झोपड़ी
  • कुलूप अंधियार- बिल्कुल अंधेरा, घना अंधकार
  • कोटना – नांद / पशुओं को खाना खिलाने का पत्थर या सीमेंट का बना पात्र
  • कोदो कुटकी – एक प्रकार का अनाज, पहाड़ी क्षेत्र का जो ढलान भूमि में उगाई जाती है
  • कोहा – पत्थर / मिट्टी का छोटा टुकड़ा


छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - ख वाले शब्द 

  • खोदरा – गड्ढा
  • गोधा – चिड़िया का घोंसला
  • खपूरी- रोटी, चपाती
  • खबडी खबडा – पेटू
  • खरखर – तेज आदमी / फुर्तीला
  • खरसी – सुखा गोबर का टुकड़ा
  • खरही – कांटे के फसल ढेरी
  • खरेरा, खरेटा – बांस की तीलियों से बना झाड़ू
  • खाल्हे – नीचे
  • खिनवा – कर्णफूल / कान में पहने जाने वाला आभूषण
  • खिसोरना – दांत दिखाना
  • खीक – बुरा , बदसूरत
  • खिला – कील
  • खीसा – जेब, हाथी दांत जंगली ,सूअर का दांत
  • खुमरी – छाता
  • खुसूर फुसूर – फुसफुस आहट
  • खोईला – धूप में सुखाई गई हरी सब्जी।
  • खोन्धरा – गड्ढा
  • खोखमा – कमल के फूल
  • खोर – मकान के सामने का हिस्सा
  • खोराना – लंगड़ाना
  • खोली – कमरा



छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - ग वाले शब्द 


  • गांसा – बड़ा खेत
  • गिदोल – बड़ा मेंढक
  • गिंधोलना – तरल पदार्थ को हाथ पैर घुमा कर गंदा करना या उससे कुछ बुरा करना
  • गिंया – मित्र
  • गुगवाना – धुआं निकलना
  • गेंगरुआ – केचुआ
  • गैंती – कुदाल
  • गोंदली – प्याज
  • गोसैईया – मालिक , पति
  • गउटिया – धनी किसान, मालगुजार
  • गमछा – टावेल
  • गरेर – धुकी – आंधी पानी
  • गरी – मछली पकड़ने के लिए उपयोग में लाया जाने वाला उपकरण
  • गरुवा – मवेशी ,जानवर
  • गरू – भारी
  • गरेर – धूल भरी आंधी , चक्रवाती हवा
  • गहिरा – यादवों की एक जाति, चरवाहा , ग्वाला
  • गिधराइल – चमगादड़
  • गुतुर/गुरतुर – मधुर , मीठा
  • गोदाम – बटन
  • गुंदेलना – निर्दयता पूर्वक मारना
  • गुनना – विचार करना , मंथन करना
  • गुरमेटना – गोलाकार लपेटना
  • गुररी देखना – घूरकर देखना
  • गुरहा – गुड़ से बना मिष्ठान
  • गुरावट – भाई बहन को एक दूसरे परिवार के भाई बहन से परस्पर विवाह करने की प्रथा
  • गुलगुला – इटावा रोड से बना मीठा व्यंजन
  • गुड़ी – चौपाल , आदिवासी समाज द्वारा मरने के बाद बनाए जाने वाला मठ
  • गेजवा/गेजगेवा/गिजगिजहा – आ कारण हमेशा हंसते रहने वाला व्यक्ति
  • गेदराना – फल का पकने की स्थिति में आना
  • गोंडी – स्त्रियों का अस्मिता पूर्वक संबोधन , प्रिया सखी
  • गोटानी – भावना छड़ी जिसका ऊपरी सिरा हुक्का की तरह
  • गिया – मित्र
  • गोठियाना – बात करना
  • गोर्रा – पशु साला, चंद्रमा के चारों ओर दिखाई देने वाला प्रभामंडल, मवेशी रखने का कक्ष
  • गोरस – गाय का दूध
  • गोरसि – आगरा अपने का मिट्टी का पात्र
  • घाट/घठोंधा – स्नान घाट
  • घरगुड़िया/ घरगुदिया – बच्चों द्वारा रेत से या खेल-खेल में बनाया गया घर
  • घररक्खा – छिपकली
  • घूघवा – उल्लू
  • घुटवा – टखना
  • घुरुवा- कूड़े का ढेर
  • घेंच – गर्दन , गला
  • घेरी बेरी – बार-बार
छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - च वाले शब्द 

  • चंट – चंचल , चतुर
  • चटरहा/चटरही – बातुनी , पथरीला जमीन
  • चातर – खरपतवार रहित, समतल
  • चानी – टुकड़ा
  • चाम – चमड़ी चमड़ा
  • चिगंरी – एक प्रकार की मछली, झिंगा
  • चिखला – कीचड़
  • चिरपोटी – रसभरी, छोटा टमाटर
  • चिल्लर- छोटा बच्चा
  • चिल्हरा/ चिटरा – गिलहरी
  • चुंदी – बाल
  • चुक चुक ले – भरकर दिखाई देने वाला
  • चुचवाना – टपकना
  • चुप्पा – चुप्पी साधने वाला
  • चेंधना – बार-बार पूछना
  • चेताना – याद दिलाना , चेतावनी देना
  • चेथी/ चेथोरा – गर्दन के पीछे का भाग
  • चोला – शरीर
  • चौसेला – चावल की रोटी
  • छानही / छानी – खपरैल की छत
  • छीनी अंगरी – छोटी उंगली
  • छोडछुट्टी – तलाक

छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - ज वाले शब्द 

  • जतनाना / जतन करना – सुरक्षित रखना, देखभाल करना, सहेज कर रखना
  • जतर कतर – बिखरा हुआ
  • जबड /जबर – बड़ा
  • जबरजंग – विशाल , विराट
  • जम्मो – सब, पूरा
  • जम्मो झन – सब लोग
  • जस सेवा – देवी भक्ति
  • जांता – अनाज पीसने का दो पत्थर के पाटो का घरेलू उपकरण
  • जाड़ा/ जाड़- ठंड
  • जुवार – बेला
  • जुन्ना – पुराना
  • जोंधरा – मक्का , भुट्टा
  • झक्खर – हवा के साथ लगातार बारिश
  • झगरा – झगड़ा
  • झड़ी – लगातार बरसात
  • झन – मत / नहीं
  • झपाना – गिरना , टकराना
  • झांपी – बांस की टोकरी जो शादी में विशेष रुप से उपयोग में आती है।
  • झावा लगना – लू लगना
  • झीकना – खींचना
  • झेलार/ झलेरा – लहर

छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - ट वाले शब्द 

  • टकरहा – आदि होना
  • टघलना – पिघलना
  • टठिया – भोजन करने का कांसे का बर्तन
  • टन्नक – स्वस्थ, फुर्तीला
  • टन्नस – तनाव
  • तमरना – छुना , टटोलना
  • टॉट – कड़ा
  • टाठी – थाली
  • टिकली – बिंदिया
  • टिकावन – वर या वधू को दिया जाने वाला उपहार
  • टीरटीरहा – क्रोधी
  • टेकहा – हठी , जिद्दी
  • टेटका – गिरगिट
  • टेपरा – माथा
  • टेहर्रा – नीलकंठ पक्षी, एक प्रकार का नीला रंग
  • टेशिया – सेखी खोर
  • टोक – कोना
  • टोटा – गला
  • टोडु – छोटा छिद्र

छत्तीसगढ़ी भाषा शब्दकोश - ठ वाले शब्द 

  • ठन ठन गोपाल – धनहीन , कंगाल
  • ठंडन ले – पूर्णतः
  • ठउका – बिल्कुल ठीक
  • ठोका के बेरा में – ठीक समय पर
  • ठउर – स्थान / जगह
  • ठउर ठिकाना – रहने का स्थान
  • ठक ठक ले – खाली
  • ठगई – धोखा देने का कार्य
  • ठगडि / ठगडा – संतान हीन , नि संतान , बांझ
  • ठगना – धोखा देना
  • ठठ्ठा – हंसी मजाक
  • ठप्पा – छाप , मोहर
  • ठल्हा – बिना काम का
  • ठाकुर देव – ग्राम देवता
  • ठाठ – शान शौकत, ढांचा
  • ठीहा – कार्यस्थल/जमीन का सीमांकन स्थल, /रहने बैठने का स्थाई ठिकाना
  • ठेनी – झगड़ा
  • ठोमा – एक आपकी अंजलि भर/ मुट्ठी भर
  • ठोरियाना / ठुरियाणा – इकट्ठा होना
  • डउकी – स्त्री , पत्नी , महिला
  • डगर/ डहर – रास्ता
  • डंडागा – लंबा
  • डबकना – उबलना
  • डबरी डबरा – छोटा तालाब
  • डारा – पेड़ का डाल
  • डीडवा – कुंवारा
  • डुमर – गूलर का फल
  • ढूंढी- अनामिका
  • डेना – पंख
  • डेरी – बाया
  • डेहरी – घर , दहलीज
  • डोंगरी- छोटी पहाड़ी
  • डोंगा – नौका
  • डोगी – छोटे नौका
  • डोकरा – बूढ़ा व्यक्ति
  • डोहारना – ले जाना
  • ढुड़ूम – युवा
  • गुरु – भुने हुए अनाज में बचे हुए कड़े दाने
  • ढेकना – खटमल
  • ढेंकी – धान कूटने का पुराना प्रारंभिक उपकरण
  • ढेठा – डंठल
  • ढेखरा – पेड़ों की सूखी शाखा
  • ढेडहा – वर पक्ष का जीजा/ फूफा
  • ढेर – आलस्य
  • डेरवा ढेरचा – भैनां
  • ढेला – मिट्टी का बड़ा टुकड़ा

Chhattisgarhi to Hindi to Chhattisgarhi 2023 


  • तईहा – बीते समय / बहुत पहले का साल
  • तनियाना – गुस्सा ना
  • तरकी – कान का एक गहना
  • तरिया – तालाब
  • तरेरना + आंखें दिखाना
  • तात – गर्म
  • ताला बोली – व्याकुलता
  • तिड़ी बीड़ी – इधर-उधर अस्त-व्यस्त
  • तितली – तीन बेटों के बाद जन्मे एक बेटी
  • तिपना – गरम होना
  • तिल – चालबाज
  • तिरपट – तीतर खार -आस पास
  • तीतर खार – आस पास
  • तीरे तीर – किनारे किनारे
  • तुहर – तुम्हारा , आपका
  • तुतारी – कील लगा हुआ डंडा
  • तुनना – कटे हुए भाग की मरम्मत करना,
  • तुमा – लौकी का एक प्रकार , गोल लौकी
  • तेयरे पाय के – उसके ही कारण
  • तीतरा – तीन बेटी के बाद का बेटा
  • तोला – तुम्हें
  • थथमराना – लड़खड़ाना
  • थुथरना – बार बार प्रहार करना
  • थोथना – मुखड़ा, चेहरा
  • थोथुवा होना – सुन्न होना
  • थोरकुन – थोड़ा सा



  • ददकना – गर्मी लगना
  • दौतेला – हिंदू विवाह की एक रस्म
  • दईहान – गौठान , पशुओं को इकट्ठा करने का
  • दत्त कूरा – मसूड़ों का दर्द
  • दरघोटनी – मथानी
  • दरमी – अनार
  • दुहना – मिट्टी से बना छोटा बर्तन जिसमें दूध दुहा जाता है
  • दुहना – दूध निकालना
  • दोगला – दोहरा चरित्र का व्यक्ति
  • धाकड़ – डील डौल वाला
  • लकर धकर – जल्दी-जल्दी
  • धन्न – कृतार्थ,
  • धनहा – धान का खेत
  • धनु हारी – धनुर्धारी
  • धपोरना – कार्य करने में असमर्थ हो ना , थकना
  • धरऊ – पकड़ में आने योग्य, पहुंच के भीतर
  • धरमिन – धार्मिक स्त्री
  • धरसा – खेतों के बीच जाने का रास्ता
  • धरा रफ्ता – तत्काल , तुरंत
  • धाप – आधा कोस की दूरी
  • धारन – छप्पर को आधार देने वाली लकड़ी
  • धिया – कन्या, बेटी
  • धीरंत – धैर्यवान
  • धुकधुकी – तेज धड़कन
  • धुमरी – मोटा मोटी
  • धुसका – मोटी रोटी
  • धुर – होली त्यौहार के 13 दिन बाद मनाया जाने वाला त्यौहार
  • धौरा – एक प्रकार की लकड़ी, सफेद पशु

  • नंगत – अधिक
  • नादाना – विलुप्त होना
  • नकसुर्रा – नकसीर
  • नियांव – निर्णय
  • नरियाणा – द
  • चिल्लाना गाय , लोमड़ी आदि की आवाज
  • नरवा – नाला
  • नरेटी – कला / कंठ
  • नागमुरी / नाग मोरी – नाग के सिर की आकृति वाला बाजूबंद
  • नागर – हल
  • नागा – अंतराल
  • नाथ – रस्सी जो बैल या भैंस की नाक में पहनाई जाती है
  • नामकुन – छोटा
  • नार – लता
  • नाहवन – मृतक की आत्मा की शांति हेतु संबंधियों का स्नान कर्म
  • निंधा – ठोस
  • नीच्चट – एकदम , बिल्कुल
  • नीचोना – निचोड़ना
  • नीछना – छिलना
  • निछाव – अकेलापन , सूनापन
  • निथरना – छनकर निकलना
  • निपोर चंद/ निपोर – मूर्ख, दिखावा करने वाला , तिरष्कार पूर्ण संबोधन
  • नीमगा – साफ , शुद्ध
  • नीमारना – चुनना , छांटना
  • नीरमामूल – पूर्णता, समाप्त करना
  • नीक – अच्छा, सुंदर
  • नीसेनी – शिढी
  • नुनसूर – नमकीन
  • नुनचरा – अचार, तुरंत उपयोग हेतु बनाया गया आम का अचार
  • नेंग/नेंगहा – औपचारिक , नाम मात्र के लिए
  • नेत – उचित माप
  • नेवरिया – नया व्यक्ति
  • नोनी – पुत्री, लड़की
  • नोहर छोहर – दुर्लभ



  • पंहलावत – पहली संतान
  • पउलना – काटना
  • पउली /परसुल – पहसुल , पावसी
  • पउर – गत वर्ष, पिछला वर्ष
  • पखना – पत्थर
  • पगुराना – जुगाली करना
  • पचरंगा – एक प्रकार का फूल , पांच रंग का
  • पचरी – तलाब में नहाने के लिए बनी पक्की सिढिया ।
  • पंछीनना – फटकना
  • पठरु – बकरी का नर बच्चा
  • पठिया – बकरी का मादा बच्चा
  • पठेरा – आला
  • पडकी – कबूतर जैसा एक पक्षी
  • पड़रु – भैंस का नर बच्चा
  • पाड़ी – भैंस का मादा बच्चा
  • बांछी – गाय का मादा बच्चा
  • पढ़िया पतिआना- विश्वास करना
  • पत्तों – बहुरिया , बोली
  • पखरा , पखना – पत्थर
  • मनछुटहा – स्वादहीन , ज्यादा पानी वाला भोजन
  • पनही – जूता
  • पुनपुरवा – एक प्रकार की रोटी
  • परेवा – कबूतर
  • पलानी – मिट्टी की चारदीवारी के ऊपर बनाई गई छत
  • पसर – अंजली
  • पसिया – मांड
  • पिसान – आटा
  • पेज – मांड सहित चावल का पेय
  • पोचवा – खोखला, बिना बीज के फल
  • पोखरा – कमल गट्टा
  • पसेरना – घेरना
  • पोगरी – निजी
  • पोटठ – मजबूत
  • पोटा – अंतडी
  • पोरा – मिट्टी का छोटा घड़ा
  • पोलखा – ब्लाउज
  • पोसवा – फालतू
  • फजर – जल्दी सुबह
  • फरा – चावल आटे से भाप द्वारा बनाया पकवान
  • फाटा , फयिरका – दरवाजा
  • भिलोना – भिगोना
  • फुटेना – आंखों में भुना हुआ अन्न, चना
  • फुतका फूतकी – धूल
  • फुलददा – पिता के मित्र
  • फुलदाई – पिता के मित्र की पत्नी
  • फुल बेटा – मित्र का बेटा


  • बंकी पढ़ना – क्रोध में अपशब्द का प्रयोग करना।
  • बंगला – खरबूज
  • बंगाला – टमाटर
  • बंडी – बिना आस्तीन का वस्त्र , बिना साजो सामान की बैलगाड़ी
  • बंधी गोभी – पत्ता गोभी
  • बंबर – भभक कर जाने वाली आग , लपट , ज्वाला
  • बड़वा – जिसकी पूछ कट गई हो
  • बईगा – गांव का तांत्रिक, ग्राम देवी देवताओं का पुजारी, आदिवासियों की एक जनजाति
  • बैठागूर – बैठे-बैठे दिन बिताने वाला खाली पीली आदमी
  • बइद – ओझा
  • बईला – बैल
  • बईहा – पागल , दीवाना
  • बउरना – उपयोग करना
  • बक् खाना – आश्चर्य में पड़ जाना
  • बकठी – बांझ
  • बक्सा – संदूक
  • बकना – गाली देना
  • बाकेना – ऐसा बछड़ा जो दूध ना पी रहा हो
  • बखत – समय
  • बखरी – बाड़ी
  • बगईचा – बगीचा
  • बगई – एक प्रकार की घास जिससे रस्सी बनाई जाती है , कुत्तों के शरीर में पाया जाने वाला एक प्रकार की मक्खी
  • बग बग – हल्दी
  • बकबिक बकबिक – भीड़ भाड़
  • बगरी – घराती की सहायता के उद्देश्य से बारातियों को समूह में बैठकर अलग-अलग घरों में भोजन कराने की परंपरा, चावल के बीच में मिलने वाला lal चावल
  • बगियाना – आग बबूला होना
  • बघमुला – गुस्सैल स्वभाव का
  • बघार – छौकना
  • बघवा – बाघ
  • बछर – साल , वर्ष
  • बटकर – मसूर , तिवरा, मटर आदि की सब्जी
  • बटकी – कांसे का बड़ा कटोरा , बासी खाने का बर्तन
  • बटरा – मटर
  • बटलोही – कांसे का गोल बर्तन
  • बठेना – नगाड़ा इत्यादि वाद्य यंत्रों को बजाने का डंडा
  • बड़ेर – आंधी तूफान
  • बदरा , बोदरा – पोलाधान
  • बढ़ोतरी – उन्नति
  • बदउर – खरपतवार
  • बदना – मनौती , मन्नत
  • बद्दी देना – दोष देना
  • बन – खरपतवार
  • बनी भूति – मजदूरी , रोजगार
  • बनेला – रुई के बीज
  • बपरी ,बपरा – बेचारा/ बेचारी
  • बफौरी – एक प्रकार की कढी सब्जी
  • बमरी – बबूल का पेड़
  • बयाना – एडवांस में दी गई राशि
  • बर – दूल्हा
  • बर – बरगद का पेड़
  • बरछा – गन्ना का खेत
  • बरठा – दुश्मन , शत्रु
  • बरदी – पशुओं का झुंड
  • बरदिहा – पशुओं चरवाहा
  • बरसी – वार्षिक श्राद्ध
  • भैंरा – कम सुनने वाला
  • बांगा – एलुमिनियम का बर्तन
  • बांठ – लोहे की पट्टी जो लकड़ी के पहियों में चढ़ाई जाती है
  • बाम्हन चिरई – गौरैया
  • बावन बूटी – बौना
  • बावा रोटी – मोटी रोटी
  • बासी – रात का भिगोया भात
  • बिछिया – पैर की उंगली का जेवरात
  • बिछुवा – छुरी
  • बिजना – बांस का पंखा
  • बीजहा – सुरक्षित श्रेष्ठ बीज
  • बीयापना – भारी पड़ना , मानसिक कष्ट की अनुभूति
  • बीरबिट करिया – गहरा काला
  • बिरौनी – पलकों के बाल
  • बिलोना – मथना
  • बिहाव – शादी , ब्याह
  • बीही – अमरूद का फल
  • बुरचना – खींचकर तोड़ना
  • बूंदीबाघ – चीता
  • बुलथे – घूमता है
  • बुलना – घूमना
  • बुडती – पश्चिम
  • बुडना – डूबना
  • बेंगवा – धारीदार बड़ा मेंढक
  • बेलिया – खरपतवार
  • बैरी – दुश्मन



  • भईसा – भैंस
  • भंदई – चमड़े से बना विशेष प्रकार का जूता चप्पल
  • भवाना- घुमाना
  • भवारी – लकड़ी को छेद करने का यंत्र
  • भांडा – बर्तन
  • भईग – बस हो गया , पर्याप्त
  • भउजी – भाभी
  • मुक मुडवा – बेतरवीव बालों वाला
  • भकला भकली – मूर्ख बुद्धि
  • भक्कम – बहुत अधिक
  • भजिया – पकोड़ा , एक पकवान
  • भतार – ईश्वर , पति
  • भरका – गड्ढा
  • भरम – शक , चरित्र पर संदेह करना
  • भर्रस ले – जोरो से
  • भर्री – ऐसी जमीन जहां रबि फसल बोते हैं
  • भरोता – रशीद या पावती देना
  • भांजना – तलवार या लाठी , चलाना , रस्सी बरना
  • भांटो – जीजा
  • भांड़ी – ईट पत्थर का बना घेरा
  • भांवर – फेरे लेना
  • भाखा – बोली , भाषा
  • भाटा – बैगन
  • भाटा रंग – बैगनी रंग
  • भाठा – खुला क्षेत्र , मैदान
  • भाव – दाम
  • गिंधोल – बड़ा मेंढक
  • भींभोरा – सांप की बांबी
  • भिजाना- गिला करना
  • भितिया – दीवार
  • भिनसरहा – सुबह , भोर
  • भिरहा – बांस के पेड़ों का झुंड
  • भुंजना – भुन्ना
  • भुइया – भूमि
  • भूतियार – मजदूर , कुली
  • भुलका – छेद
  • भुलियारना – सांत्वना देना , बहलाना
  • भेंगराजी डालना – व्यवधान / भ्रम पैदा करना
  • भेला – नारियल का गोला , गिरी
  • भोंगना – घुसा देना
  • भोभंरा – तपती हुए भूमि
  • भोकवा – बेवकूफ
  • भोकवी – मूर्ख महिला
  • भोजली – जंवारा
  • भोथवा – मत बुद्धि , धारहीन
  • भोभला – जिसके दांत टूट चुके हो।
  • भोरहा – धोखा या भ्रम



  • मइरसा – अचार रखने की मिट्टी का पात्र
  • मंगठा बिनना – कपड़ा बुनना
  • मंजुला – बीच का
  • मझनिया – दोपहर
  • मंडल – अमीर किसान
  • मईके – मायका , मां का घर
  • मईलाहा – गंदा
  • मचियां – छोटी खाट
  • मंदरस – मधुमक्खी का छत्ता
  • मडिया – मचान, माडिया जाती
  • मढ़ियाना – बच्चों का घुटनों व हाथ के बल चलना
  • मढाना – रखना
  • मतौना – मादक , नशीला पदार्थ
  • मनिहारी – श्रृंगार का सामान बेचने वाला
  • मलिया – छोटा प्लेट , तश्तरी
  • महतारी – मां
  • मोर – मेरा
  • महाप्रसाद – जगन्नाथ भगवान में चढ़ाया गया खिचड़ी का प्रसाद,
  • माडा – गुफा , मांद
  • मातर – दीपावली के बाद मनाया जाने वाला ग्वालों का पर्व
  • मिझरा – मिश्रित , मिला हुआ
  • मीठाना – अच्छा लगना, स्वादिष्ट लगना
  • मिलकी मारना – पलक झपकना
  • मुदना – बंद करना
  • मुंदरहा – प्रात काल
  • मोधिंयार – शाम को अंधेरा होने का समय
  • मुखारी – दतवन , दातुन ,
  • मोनू बिलाई – पालतू बिल्ली
  • मुरचा – जंग
  • मुरहा – अनाथ
  • मुहखरा – मौखिक
  • मुड़पेलवा – आइडियल , हठी
  • मोहरी – शहनाई


  • रंग झाझर – उल्लास पूर्ण / उल्लास मय
  • रडंवा – विधुर
  • रंधनी घर – रसोईघर
  • रक्सैल – दक्षिण दिशा
  • रगड़ा टूटना – बुरी तरह थकना
  • रतिहा – रात
  • रद्दा – रास्ता , पथ
  • रना जाना – बहुत सुख जाना
  • रंन्न भन्न – अस्त व्यस्त
  • रपटा – पुलिया
  • रपली – छोटा फावड़ा
  • रिपोटना – एकत्र करना
  • रमकलिया – भिंडी
  • ररुहा – विपन , गरीब , अभाव ग्रस्त
  • रहचुली – लकड़ी का झूला
  • राईजाम – जामुन
  • राचर – कटीन ली झाड़ी का बना फाटक, विशेष प्रकार से बना लकड़ी के दरवाजा
  • राहपट – थप्पड़
  • राहेर – अरहर
  • रिंगी चिंगीं – रंगा रंग, बहु बिरंगी , रंग बिरंगी
  • रिसाना – नाराज होना
  • रीता – रिक्त , खाली , फुर्सत
  • रुख राई – पेड़ पौधा
  • रौनिया – सुबह की धूप
  • रेगड़ा – दुबला पतला
  • रेहड़ा – गली से भागकर तालाबों में जाने वाली गंदा कीचड़ युक्त जल
  • रेहना – पसीना
  • रपोटना – एकत्र करना



  • लंद फंद – धोखा धड़ी
  • लउकत हे – बिजली चमकना, तडित होना
  • लउहा – शीघ्र , जल्दी
  • लगवार – निकट अष्ट / साथी प्रेमी
  • लद्दी – कीचड़
  • लपरहा – अधिक बात करने वाला
  • लवेदना , लबेदा मारना, फेंकना फेंक के मारना
  • लबरा लबरी – झूठा झूठी
  • लबारी – झूठ
  • लमगोड़वा – लंबा आदमी
  • लंबरदार गांव का मुखिया – गांव का उत्तराधिकारी
  • लराजरा – दूर के नातेदारी
  • लागमानी – रिश्तेदार
  • लागा बोडी – कर्जा , उधार
  • लाटा – इमली को नमक के साथ कुछ कर खाने योग्य पदार्थ
  • लांदा फांदा – झंझट
  • लासा – पेड़ से निकली चिपचिपा पदार्थ गोंद
  • लाहो लेना – उपद्रव करना , उत्पात मचाना
  • लिंगरी – जुगली
  • लिट्ठू – चिपकू
  • लुदरु – ढीला ढाला / आलसी
  • लेंझा – गुच्छा , आदिवासी लोक नृत्य
  • लेई – आटे का लेप जो चिपकाने के काम में
  • लेवना – मक्खन
  • लेसना – जलाना
  • लोड़हा – सिलबट्टा / सील में पीसने वाला गोला एक थोड़ा लंबा पत्थर
  • वो दे – वह देख

Chhattisgarhi to Hindi to Chhattisgarhi 2023

  • संघरा – एक साथ , इकट्ठे
  • संनसो – चिंता
  • सपाटा – तेजी से
  • सरकी – चटाई
  • साकरा – जानवर बांधने हेतु लोहे की चैन
  • सांटी /पैरपट्टी – पायल
  • सावर बनाना – बाल कटवाना
  • सियान – बुजुर्ग
  • सिरतोन – सचमुच
  • सिराना – समाप्त होना , खाट का सिर रखने का भाग
  • सिठ्ठा / पचर्रा – फीका
  • सीथा – भात
  • सुआ नाच – दीपावली के समय स्त्रियों द्वारा किए जाने वाला लोक नृत्य
  • सुकटा – सुखा , दुबला पतला
  • सुर्रा – गले में पहनने का आभूषण
  • संझकेरहा – जल्दी / दिन रहते
  • हरु – हल्का
  • हउली – धातु का घड़ा


इसे Whatsapp, Telegram, Facebook और Twitter पर शेयर करें।

0 Comments:

Post a Comment

हमें आपके प्रश्नों और सुझाओं का इंतजार है |

Popular Posts