[Updated] वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ Branches of Botany 2023

Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

हेलो दोस्तों, आपका studypointandcareer.com में स्वागत है। इस लेख में वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ (Branches of Botany in hindi) के बारे में बताया जा रहा है। अगर आप विज्ञान के विद्यार्थी हैं तो और आपने 12 वीं में जीवविज्ञान संकाय से पढाई की है तो आपने  वनस्पति विज्ञान अवश्य पढ़ा होगा। तो क्या आप जानते हैं कि वनस्पति विज्ञान की कितनी और कौन-कौन  सी शाखाएं होती हैं। अगर नहीं तो यह लेख आपके लिए ही है। क्यूंकि इस लेख में वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ (Branches of Botany) की पूरी जानकारी दी जा रही है।

वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ Branches of Botany 2023

वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ (Branches of Botany) :-

  1. एग्रोस्टोलॉजी – घासों का अध्ययन एवं पालन 
  2. बायोमेट्रिक्स – जीव वैज्ञानिकों के प्रेक्षणों का गणितीय विवेचन
  3. हिस्टोलॉजी – ऊतकों का अध्ययन
  4. एल्गोलॉजी – शैवालों का अध्ययन 
  5. एन्थोलॉजी – फूलों का अध्ययन 
  6. एनाटोमी – आतंरिक संरचना का अध्ययन 
  7. टेक्सोनॉमी – पादप वर्गीकरण का अध्ययन 
  8. स्पर्मोलॉजी – बीजों का अध्ययन 
  9. स्पेसबायोलॉजी – अंतरिक्ष ततः वायुमण्डल में स्थित पादपों का अध्ययन 
  10. फाइटोजिओग्राफी – पौधों के वितरण एवं उनके कारणों का अध्ययन 
  11. टेरिडोलॉजी – टेरिडोफाइट्स का अध्ययन 
  12. बैक्टीरियोलॉजी – जीवाणुओं का अध्ययन 
  13. ब्रायोलॉजी – ब्रायोफाइटा का अध्ययन 
  14. केसीडियोलॉजी – पादप में रोगजन्य गाँठों, पादप कैंसर का अध्ययन 
  15. साइटोलॉजी – कोशिकाओं का अध्ययन
  16. डेंड्रोलॉजी – वृक्षों एवं झाड़ियों का अध्ययन
  17. डेंड्रोकोनोलॉजी – वृक्षों की आयु का अध्ययन
  18. इकोलॉजी – पौधों का वातावरण से संबंध का अध्ययन
  19. इकोनॉमिक बॉटनी – आर्थिक महत्त्व के पौधों का अध्ययन
  20. एम्ब्रियोलॉजी – युग्मकों के निर्माण, निषेचन एवं भ्रूण के परिवर्धन का अध्ययन
  21. इथेनोबॉटनी – आदिवासियों द्वारा पादप के उपयोग का अध्ययन
  22. इवोल्यूशन – सजीवों के विकास प्रक्रम का अध्ययन
  23. एक्सोबॉयोलॉजी – अन्य ग्रहों पर संभावित जीवों की उपस्थिति का अध्ययन
  24. फ्लोरीकल्चर – सजावटी फूलों का संवर्धन एवं अध्ययन
  25. फॉरेस्ट्री – वनों का अध्ययन
  26. जेनेटिक्स – आनुवांशिकता एवं विभिन्नताओं का अध्ययन
  27. जेनेटिक इंजीनियरिंग – कृत्रिम जीन का निर्माण एवं स्थानांतरण का अध्ययन
  28. जेरोन्टोलॉजी – आयु के साथ जीवों में होने वाले परिवर्तन का अध्ययन
  29. हेरीडिटी – पैतृक लक्षणों का संतति में पहुंचने का अध्ययन
  30. लाइकेनोलॉजी – लइकनों का अध्ययन
  31. लिम्नोलॉजी – झीलों तथा अलवणीय जलीय पादपों का अध्ययन
  32. माइक्रोबायलॉजी – सूक्ष्म जीवों का अध्ययन
  33. मार्फोलॉजी – पादपों का आकारीय संरचना का अध्ययन
  34. माइकोलॉजी – कवकों (फफूंद) का अध्ययन
  35. माइकोप्लाजमोलॉजी – माइकोप्लाज्मा का अध्ययन
  36. निमेटोलॉजी – निमेटोड्स का पादपों का साथ संबंध का अध्ययन
  37. पेलियोबॉटनी – पादप जीवाश्मों का अध्ययन
  38. पेलिनोलॉजी – परागकणों का अध्ययन
  39. पैथोलॉजी – पादप रोगों व उपचार का अध्ययन
  40. पिडोलॉजी – मृदा का अध्ययन
  41. पेरासिटोलॉजी – पोषिता तथा परजीवियों का संबंध का अध्ययन
  42. फाइकोलॉजी – शैवालों का अध्ययन
  43. फार्मेकोलॉजी – औषधीय पादपों का अध्ययन
  44. फिजियोलॉजी – विभिन्न पादप जैविक क्रियाओं का अध्ययन
  45. पॉमोलॉजी – फलों का अध्ययन
  46. एग्रोनोमी – फसली पादपों का अध्ययन
  47. बायोटेक्नोलॉजी – प्रोटोप्लास्ट का पृथक्करण एवं संवर्धन का अध्ययन
  48. रेडिएशन बायोलॉजी – विभिन्न उपकरणों का पादपों पर प्रभाव व उत्परिवर्तन का अध्ययन
  49. फाइटोफिजिक्स – भौतिक सिद्धांतों  उपापचय में महत्त्व का अध्ययन
  50. बॉयोकेमिस्ट्री – सजीवों में कार्बनिक पदार्थों का अध्ययन
  51. वायरोलॉजी – विषाणुओं का अध्ययन
  52. हार्टीकल्चर – फल, सब्जियों तथा उद्यान पादपों का संवर्धन का अध्ययन
  53. मॉलिक्युलर बायोलॉजी – न्यूक्लिक अम्लों ( DNA व RNA ) का अध्ययन
  54. सिल्वीकल्चर – वनीय वृक्षों तथा उनके उत्पादों का संवर्धन व अध्ययन
  55. टिश्यू कल्चर – कृत्रिम माध्यम पर ऊतकों का संवर्धन का अध्ययन
  56. हिस्टोकेमिस्ट्री – कोशिकाओं एवं ऊतकों में विभिन्न रासायनिक पदार्थों की स्थिति का अध्ययन

तो दोस्तों ये थी जानकारी वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ ( Branches of Botany ) की आगे अब हम और कुछ महत्वपूर्ण विज्ञान की प्रमुख शाखाओ के बारे में जानेंगे |

विज्ञान की प्रमुख शाखाओं के जनक :-

  1. उत्परिवर्तनवाद – ह्यूगो डी ब्रीज 
  2. माइक्रोस्कोपी – मारसेलो माल्पीजी 
  3. जीवाणु विज्ञान – रॉबर्ट कोच 
  4. प्रतिरक्षा विज्ञान – एडवर्ड जेनर 
  5. जन्तु विज्ञान – अरस्तु 
  6. आनुवांशिकी – जी. जे. मेण्डल 
  7. विकिरण आनुवांशिकी – एच जे मुलर 
  8. आधुनिक आनुवांशिकी – बेटसन 
  9. आधुनिक शारीरिकी – एंड्रियास विसैलियस 
  10. रक्त परिसंचरण – विलियम हार्वे 
  11. वर्गिकी – केरोलस लीनियस 
  12. चिकित्सा शास्त्र – हिप्पोक्रेट्स 
  13. जीवाश्म विज्ञान – लिओनार्डो दी विन्ची 
  14. सूक्ष्म जैविकी – लुई पाश्चर 
  15. जिरोंटोलॉजी – ब्लादिमीर कोरनेचेवस्की 
  16. एंडोक्राइनोलॉजी – थॉमस एडिसन 
  17. आधुनिक भ्रूणिकी – कार्ल ई वॉन वेयर 
  18. वनस्पति शास्त्र – थियोफ्रेस्टस 
  19. सुजननिकी – फ्रांसिस गाल्टन 
  20. पादप रोग विज्ञान – ए. जे. बटलर 
  21. पादप क्रिया विज्ञान – स्टीफन हेल्स
  22. बैक्टिरियोफेज – टवार्टव दीहेरिल

पादप एवं प्राणी - वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ (Branches of Botany)

सामान्य अर्थ में जीवधारियों को दो प्रमुख वर्गों - प्राणियों और पादपों - में विभक्त किया गया है। दोनों में अनेक समानताएँ हैं। दोनों की शरीर रचनाएँ कोशिकाओं और ऊतकों से बनी हैं। दोनों के जीवनकार्य में बड़ी समानता है। उनका जनन भी सादृश्य है। उनकी श्वसनक्रिया भी लगभग एक सी है।

Branches of Botany - वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ 

पादप प्राणियों से कुछ मामलों में भिन्न भी होते हैं। जैसे पादपों में पर्णहरित (chlorophyll) नामक हरा पदार्थ रहता है, जो प्राणियों में नहीं पाया जाता। पादपों की कोशिका भित्तियाँ मुख्यतः सेलुलोज (cellulose) नामक कार्बोहाइड्रेट की बनी होती हैं, जबकि प्राणियों में कोशिका भित्तियाँ सामान्यतः पायी ही नहीं जातीं। अधिकांश पादपों में गमनशीलता नहीं होती, जबकि प्राणी चलने में सक्षम होते हैं।

इस लेख में हमने वनस्पति विज्ञान की शाखाएँ (Branches of Botany) के बारे में जाना। और महत्वपूर्ण पोस्ट के लिंक निचे दिए गया हैं आप इन्हें एक बार जरुर से पढ़ें - 

इसे Whatsapp, Telegram, Facebook और Twitter पर शेयर करें।

0 Comments:

Post a Comment

हमें आपके प्रश्नों और सुझाओं का इंतजार है |

Popular Posts