Active Study Educational WhatsApp Group Link in India

ITI Trade List 2022 | आईटीआई ट्रेड लिस्ट की जानकारी | Technical and Non-Technical

ITI Trade List 2022 | आईटीआई ट्रेड लिस्ट की जानकारी 

क्या भी सर्च कर रहे हैं आईटीआई ट्रेड लिस्ट की जानकारी तो आप बिलकुल सही वेबसाइट में आये हैं क्योंकि आज के इस पोस्ट हम आपके लिए लेकर आये हैं आईटीआई ट्रेड लिस्ट की जानकारी टेक्निकल और नॉन टेक्निकल ITI Trade List 2022 की पूरी जानकारी निचे दिया गया हैं - 

iti-trade-list-2022-technical-and-non-technical


आईटीआई ट्रेड लिस्ट की जानकारी के अलावा ITI से जुडी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट को रेगुलर विजिट कर सकते हैं - 

आईटीआई के टेक्निकल ट्रेड की लिस्ट (Technical ITI Trade List 2022)

टेक्निकल ट्रेड लिस्ट की के अंतर्गत आने वाले कोर्स के नाम और कोर्स की अवधि आपको निचे दिया गया हैं - 

sn. Technical Course Name  Duration
1 Architectural Assistant 1 Year
2 Attendant Operator 2 Year
3 Carpenter 1 Year
4 Computer Hardware and Network Maintenance 1 Year
5 Draughtsman (Civil) 2 Year
6 Draughtsman (Mechanical) 2 Year
7 Electrician 2 Year
8 Electronic Mechanic 2 Year
9 Electroplater 2 Year
10 Fitter 2 Year
11 Foundryman Technician 1 Year
12 Industrial Painter 1 Year
13 Information Communication Technology System Maintenance 2 Year
14 Instrument Mechanic 2 Year
15 Interior Decoration and Designing 1 Year
16 IoT TECHNICIAN (SMART CITY) 1 Year
17 Laboratory Assistant 2 Year
18 Machinist 2 Year
19 Building Constructor 1 Year
20 Mechanic (Radio & TV) 2 Year
21 Mechanic (Refrigeration and Air-Conditioner) 2 Year
22 Mechanic (Tractor) 1 Year
23 Mechanic Agricultural Machinery 2 Year
24 Mechanic Auto Body Painting 1 Year
25 MECHANIC AUTO BODY REPAIR 1 Year
26 Mechanic Computer Hardware 2 Year
27 Mechanic Diesel Engine 1 Year
28 Mechanic Medical Electronics 2 Year
29 Mechanic Motor Vehicle 2 Year
30 Painter General 2 Year
31 Physiotherapy Technician 1 Year
32 Plastic Processing Operator 1 Year
33 Plumber 1 Year
34 Sheet Metal Worker 1 Year
35 Solar Technician 1 Year
36 Surveyor 1 Year
37 Turner 2 Year
38 Welder 1 Year
39 Wireman 2 Year

तो यहाँ हमने जाना लगभग सभी Technical (आईटीआई) ट्रेड लिस्ट की जानकारी कोर्स के नाम और साथ ही कोर्स के अवधि के बारे में आगे अब हम जानेंगे सभी नॉन टेक्निकल (आईटीआई) ट्रेड लिस्ट की जानकारी कोर्स के नाम और साथ ही कोर्स के अवधि के बारे पूरी जानकारी - 

इन्हें भी पढ़ें -  ITI कोर्स की पूरी जानकारी।

आईटीआई के नॉन-टेक्निकल ट्रेड की लिस्ट ( Non-Technical ITI Trade List 2022)

नॉन -टेक्निकल ट्रेड लिस्ट की के अंतर्गत आने वाले कोर्स के नाम और कोर्स की अवधि आपको निचे दिया गया हैं - 
 
No.  Non-Technical Course Name Duration
1 Baker & Confectioner 1 Year
2 Basic Cosmetology 1 Year
3 Computer-Aided Embroidery And Designing 1 Year
4 Computer Operator and Programming Assistant 1 Year
5 Craftsman Food Production 1 Year
6 Data Entry Operator 6 Months
7 Dental Laboratory Equipment Technician 2 Year
8 Desktop Publishing Operator 1 Year
9 Digital Photographer 1 Year
10 Dress Making 1 Year
11 Fashion Design and Technology 1 Year
12 Floriculture and Landscaping 1 Year
13 Food Beverage 1 Year
14 Fruits and Veges Processing 1 Year
15 Health Safety and Environment 1 Year
16 Health Sanitary Inspector 1 Year
17 Horticulture 1 Year
18 Hospital House Keeping 1 Year
19 HouseKeeper 1 Year
20 human resource executive 1 Year
21 Information Technology 1 Year
22 Internet of Things Technician 1 Year
23 Litho Offset Machine Minder 1 Year
24 Mechanic Air-Conditioning Plant 2 Year
25 Milk & Milk Product 1 Year
26 Multimedia Animation and Special Effects 1 Year
27 Office Assistant cum Computer Operator 1 Year
28 Plate Maker cum Impostor 1 Year
29 Preparatory School Management 1 Year
30 Secretarial Practice 1 Year
31 Sewing Technology 1 Year
32 Spa Therapy 1 Year
33 Stenographer & Secretarial Assistant (English) 1 Year
34 Stenographer & Secretarial Assistant (Hindi) 1 Year
35 Surface Ornamentation Techniques 1 Year
36 Web Designing and Computer Graphics 1 Year

आईटीआई ट्रेड लिस्ट 

इस पोस्ट में हमने आईटीआई ट्रेड की लिस्ट को दो भागों में विभाजित किया हैं  – इंजीनियरिंग और नॉन इंजीनियरिंग ( अर्थात टेक्निकल और नॉन टेक्निकल) इस लिस्ट में हमने आपको ट्रेड का नाम और उसकी प्रशिक्षण अवधि के बारे में जानकारी दिए गए हैं । 

आईटीआई ट्रेड की लिस्ट के भाग-
  1. इंजीनियरिंग [टेक्निकल]
  2. नॉन इंजीनियरिंग [नॉन टेक्निकल]
आईटीआई के टेक्निकल ट्रेड की लिस्ट (ITI Trade List 2022) से जुडी इस जानकारी को सोशल मीडिया में अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें और आईटीआई से जुडी नोट्स के लिए हमारे अन्य पोस्ट को भी जरुर पढ़ें - 

इन्हें भी पढ़ें - 

List of MBA Specializations in India 2022 | MBA Trade list 2022

MBA Specializations in India 2022 | MBA ट्रेड लिस्ट की जानकारी 

क्या भी सर्च कर रहे हैं MBA ट्रेड लिस्ट की जानकारी तो आप बिलकुल सही वेबसाइट में आये हैं क्योंकि आज के इस पोस्ट हम आपके लिए लेकर आये हैं MBA  ट्रेड लिस्ट की जानकारी और List of MBA Specializations in India 2022 की पूरी जानकारी निचे दिया गया हैं - 

list-of-mba-specializations-in-india-2022



List of MBA Specializations in India से जुडी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट को रेगुलर विजिट कर सकते हैं - 
 
Sr No MBA Specialization Type of Specialization
1 MBA in Finance Functional
2 MBA in Marketing Functional
3 MBA in Human Resource Management Functional
4 MBA in International Business Functional
5 MBA in Logistics & Supply Chain Management Functional
6 MBA Big Data Analytics/ Data Science/ Business Analytics Functional
7 MBA in Operations Management Functional
8 MBA in Banking & Financial Services Sectoral
9 MBA in Insurance Business Management Sectoral
10 MBA in Rural Management Sectoral
11 MBA in Healthcare Management Sectoral
12 MBA in Pharmaceutical Management Sectoral
13 MBA in Retail Management Sectoral
14 MBA in Energy Management Sectoral
15 MBA in Infrastructure Management Sectoral
16 MBA in Agri-Business Management Sectoral
17 MBA in Entrepreneurship Special Interest
18 MBA in Family Managed Business Special Interest
19 MBA in Sustainability Management Special Interest
20 MBA Dual Country Program Special Interest

तो ये थी जानकारी भारत में MBA  के टॉप Specializations की अब हम आगे जानेंगे  इनमे से 10 most popular top MBA Specializations के बारे में - 

Top 10 MBA Specializations

If you want to know which are the 10 most popular top MBA Specializations in India, here they are:
  1. MBA Finance
  2. MBA Marketing
  3. MBA Human Resource Management
  4. MBA International Business
  5. MBA Banking & Financial Services
  6. MBA Business Analytics
  7. MBA Rural Management
  8. MBA Healthcare Management
  9. MBA Agri Business Management
  10. MBA in Entrepreneurship & Family Business Management

इस पोस्ट में List of MBA Specializations in India 2022 के बारे  में जाना साथ ही 10 most popular top MBA Specializations की  जानकारी हमने आपको ऊपर दिया हैं एम बी ए ट्रेड या MBA Specializations की इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें और 10 most popular top MBA Specializations के बारे में दी गयी जानकारी को नोट करके भी रख सकते हैं | 


MBA से जुडी अन्य जानकारी के साथ साथ अन्य कोर्स की जानकारी हेतु निचे दिए गए पोस्ट को भी एक बार जरुर से पढ़ें - 


RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की पूरी जानकारी

RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009

इस पोस्ट में हम आपके लिए लेकरआये हैं RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जैसे की RTE Act 2009 क्या है ? RTE Act का फुल फॉर्म क्या हैं और RTE Act 2009 में कब किस दिन लागु हुआ था ? RTE Act 2009 के क्या उदेश्य हैं और शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 का इतिहास क्या हैं | 

RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की पूरी जानकारी

शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी इन सभी बिन्दुओ की जानकारी विस्तार पूर्वक निचे दिया गया है आपके जानकारी के लिए बता की RTE Act 2009 से जुड़े कई प्रश्न सेट्रल गवर्मेंट के परीक्षा में कई बार पूछे जा चुके हैं जैसे की RTE Act 2009 कब लागु हुआ था RTE Act 2009 के क्या उद्देश्य हैं | 

“हर घर में हो साक्षरता का वास, तभी तो होगा देश का विकास” किसी भी विकसित या विकासशील देश की सबसे बड़ी ताकत होते है उस देश के युवा और बच्चे। इसलिए भारत में शिक्षा के विकास के लिए RTE Act यानि राइट टू एजुकेशन एक्ट लाया गया। RTE Act के तहत 6-14 वर्ष तक की आयु वाले बच्चों को निःशुल्क व अनिवार्य शिक्षा के लिए क़ानूनी अधिकार प्राप्त है। पर बहुत ही कम लोग होंगे जिन्हें ‘शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009’ (RTE Act 2009 in Hindi) के बारे में विस्तृत जानकारी होगी।

RTE Act 2009 के 38 अनुच्छेद

  • संक्षिप्त नाम और विस्तार
  • परिभाषा
  • निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा
  • प्रवेश ना दिए गए बालकों को या जिन्होंने प्राथमिक शिक्षा पूरी नहीं की है के लिए विशेष उपबंध
  • अन्य विद्यालय में स्थानांतरण का अधिकार
  • राज्य सरकारों और स्थानीय पदाधिकारियों को विद्यालय स्थापित करने के कर्तव्य
  • वित्तीय तथा अन्य उत्तरदायित्व में हिस्सा बांटना
  • राज्य सरकारों के कर्तव्य
  • स्थानीय पदाधिकारियों के कर्तव्य
  • माता पिता और संरक्षक का कर्तव्य
  • राज्य सरकारों का विद्यालय पूर्व शिक्षा के लिए व्याख्या करना
  • निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा के लिए विद्यालय के उत्तर की सीमा
  • एडमिशन या प्रवेश के लिए किसी प्रति व्यक्ति फीस और अनुवीक्षण प्रक्रिया का ना होना
  • प्रवेश के लिए आयु का सबूत
  • एडमिशन से इंकार ना करना
  • रोकने और निष्कासन का प्रावधान
  • बालक को शारीरिक दंड और मानसिक उत्पीड़न का प्रतिषेध
  • मान्यता प्रमाण पत्र प्राप्त किए बिना किसी विद्यालय का स्थापित ना किया जाना
  • विद्यालय के मान और मानक
  • अनुसूची का संशोधन करने की शक्ति
  • विद्यालय प्रबंधन समिति
  • विद्यालय विकास योजना
  • शिक्षकों की नियुक्ति के लिए योग्यतायें और सेवा के निबंधन और शर्तें
  • छात्र शिक्षक अनुपात
  • शिक्षकों की रिक्तियों का भरा जाना
  • गैर शैक्षिक प्रयोजनों के लिए शिक्षकों को अभिनियोजित किए जाने का प्रतिषेध
  • पाठ्यक्रम और मूल्यांकन प्रक्रिया
  • परीक्षा और समापन प्रमाण पत्र
  • बालक के शिक्षा के अधिकार को मॉनिटर करना
  • शिकायतों को दूर करना
  • राष्ट्रीय सलाहकार परिषद का गठन
  • राज्य सलाहकार परिषद का गठन
  • निर्देश जारी करने की शक्ति
  • अभिनियोजन नियोजन के लिए पूर्व मंजूरी
  • सद्भावपूर्वक की गई कार्रवाई के लिए संरक्षण
  • राज्य सरकारों के नियम बनाने की शक्ति

RTE Full Form in Hindi

RTE Ka Full Form – Right To Education Act / शिक्षा का अधिकार अधिनियम (Right Of Children To Free And Compulsory Education Act) है। हिंदी में RTE Full Form – “निशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009” के नाम से भी जाना जाता है।

तो यहाँ हमने जाना की RTE Ka Full Form – Right To Education Act हैं आगे आपको बताया गया हैं की RTE एक्ट कब लागु हुआ था |

RTE Act Kab Lagu Hua

शिक्षा का अधिकार अधिनियम भारतीय संसद द्वारा 4 अगस्त 2009 को पारित किया गया था तथा जो 1 अप्रैल 2010 से सम्पूर्ण भारत में प्रभावी हुआ।

राइट टू एजुकेशन इन इंडिया

भारतीय संविधान दुनिया का सबसे लचीला और विस्तृत संविधान है। Right To Education Act के लागू होने के बाद भारत भी उन 135 देशों की सूची में सम्मिलित हो गया है। जहां बच्चो के लिए अनिवार्य तथा मुफ्त शिक्षा का प्रावधान है।

अधिनियम का इतिहास

दिसंबर 2002 को भाग-3 के अनुच्छेद 21(a) के माध्यम से 86वें संशोधन विधेयक के तहत 6 से 14 वर्ष के सभी बच्चों को मुफ्त, नियमित एवं अनिवार्य शिक्षा के अधिकार को मौलिक अधिकार माना गया।

इस पोस्ट में हमने जानना की  RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जैसे की RTE Act 2009 क्या है ? RTE Act का फुल फॉर्म क्या हैं और RTE Act 2009 में कब किस दिन लागु हुआ था ? RTE Act 2009 के क्या उदेश्य हैं और शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 का इतिहास क्या हैं | 

KEYWORD

  • rte act 2009 in hindi pdf
  • rte act 2009 pdf
  • आरटीई अधिनियम 2009 में संशोधन
  • शिक्षा के अधिकार की चुनौतियां pdf
  • राइट टू एजुकेशन क्या है उत्तर
  • शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 जम्मू-कश्मीर में कब लागू हुआ

आप से निवेदन है की इस RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी इस जानकारी को सोशल मीडिया में अपने उन दोस्तों के साथ शेयर जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहें हो | 

GK

  1. मुगल काल से संबंधित महत्वपूर्ण जीके
  2. राष्ट्रीय आंदोलन की महत्वपूर्ण तिथियां
  3. एशिया - एक नजर में
  4. 1-100 हिन्दी English Ordinal and Roman गिनती Chart List
  5. दुनिया के प्रसिद्ध और जाने माने वैज्ञानिक
  6. विभिन्न भाषाओं के महान कवि और लोकप्रिय कवि
  7. GK Question Answer in Hindi 2022

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी | Revolution of 1857 (The Indian rebellion)

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी (Special information about the Revolt of 1857 or the Indian Rebellion)

1857 की क्रांति अंग्रेजी शासन को हटाने का भारतीयों का प्रथम संगठित प्रयास था। इस समय भारत का गवर्नर जनरल लार्ड कैनिंग एवं मुख्य सेनापति ऐनसन था। यह विद्रोह उपनिवेशवादी नीतियों एवं शोषण का परिणाम था। इस विद्रोह के कई कारण थे, जिनमें राजनीतिक, आर्थिक, प्रशासनिक, सैनिकसामाजिक एवं धार्मिक कारण सभी थे।

Revolution of 1857 (The Indian rebellion)

इस विद्रोह का तात्कालिक कारण चर्बीयुक्त कारतूसों का प्रयोग था। 1857 का विद्रोह 29 मार्च 1857 को बैरकपुर (प.बंगाल) की छावनी से प्रारंभ हुआ तथा मई, 1857 में मेरठ के सैनिकों ने भी अंग्रेजी शासन के विरुद्ध विद्रोह का बिगुल बजा दिया। मेरठ छावनी के सैनिक मंगल पांडे ने नये कारतूसों के विरुद्ध आवाज उठायी तथा 8 अप्रैल, 1857 को उन्हें फाँसी दे दी गई मंगल पांडे 34 इन्फैन्ट्री राइफल के जवान थे। इसके बाद यह विद्रोह तेजी से पूरे देश में फैल गया तथा अलग-अलग स्थानों पर इसे अलग-अलग लोगों ने नेतृत्व प्रदान किया।

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी -

  • इस विद्रोह की वास्तविक शुरुआत 10 मई 1857 ईको मेरठ से हुई थी। 
  • अंग्रेजों को खदेड़ने के लिए प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नींव साल 1857 में सबसे पहले मेरठ के सदर बाजार में भड़की, जो पूरे देश में फैल गई थी।
  • इस विद्रोह के शुरू होने की पूर्व निर्धारित तिथि 31 मई, 1857 थी।
  • 10 मई 1857 में शाम पांच बजे जब गिरिजाघर का घंटा बजा, तब लोग घरों से निकलकर सड़कों पर एकत्रित होने लगे थे।
  • 9 मई 1857 को कोर्ट मार्शल में चर्बीयुक्त कारतूसों को प्रयोग करने से इंकार करने वाले 85 सैनिकों का कोर्ट मार्शल किया गया था।
  • 10 मई 1857 की शाम को ही इस जेल को तोड़कर 85 सैनिकों को आजाद करा दिया था।
  • दिल्ली के सम्राट बहादुरशाह जफर कर रहे थे परन्तु यह नेतृत्व औपचारिक एवं नाममात्र का था।
  • 1857 विद्रोह के अन्नेय तृत्वकर्ता - जनरल बख्त खां (सैनिक नेतृत्व ) एवं बहादुरशाह जफर (असैनिक नेतृत्व), बेगम हजरत महल एवं विरजिस कादिर, नाना साहब (अंतिम पेशवा बाजीराव द्वितीय के दत्तक पुत्र), रानी लक्ष्मीबाई (राजा गंगाधरराव की विधवा), तात्या टोपे, मौलवी अहमद उल्ला (मूलत: मद्रास के बाद में फैजाबाद आ गए), खान बहादुर, कुंवर सिंह (जगदीशपुर की आरा रियासत के शासक), राव तुला राम 
  • 1857 विद्रोह के केंद्र - दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, झाँसी, ग्वालियर, फैजाबाद, बरेली, बिहार और फरीदाबाद।
  • 1857 के विद्रोह को दबाने में अंग्रेजों के कई प्रमुख सेनापतियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ये इस प्रकार थे- 
    • 1.दिल्ली (लेफ्टिनेंट हडसन, लेफ्टिनेंट विलोवी, जॉन निकोलसन), 
    • 2. लखनऊ (जेम्स आउट्रम, हेनरी लारेंस, ब्रिगेडियर इंग्लिशहेनरी हैवलॉक, सर कोलिन कैम्पवेल), 
    • 3. झाँसी (सर ह्यू रोज), 
    • 4. कानपुर (कोलिन कैम्पबेल, सर ह्यू व्हीलर) एवं 
    • 5. बनारस (कर्नल जेम्स नील)। 
  • 1857 के इस विद्रोह की असफलता का प्रमुख कारण विद्रोहकर्ताओं में योग्य नेतृत्व एवं सामंजस्य का अभाव था। 
  • इस विद्रोह में सिंधिया, निजाम, भोपाल के नवाब आदि ने अंग्रेजों का साथ दिया था। 
  • इस विद्रोह के बाद ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का अंत हो गया एवं ताज का शासन प्रारंभ हो गया।
  • सेना का पुनर्गठन एवं उसमें भारतीयों की संख्या में कमी की गई।
  • अंग्रेजों ने फूट डालो एवं राज करो की नीति अपना ली। 
  • इस विद्रोह के बारे में वीर सावरकर ने कहा कि "1857 का विद्रोह स्वधर्म और राजस्व के लिए लड़ा गया राष्ट्रीय संघर्ष था।" आर. सी. मजूमदार ने कहा कि "यह न तो प्रथम था, न ही राष्ट्रीय था और यह स्वतंत्रता के लिए संग्राम भी नहीं था।"
  • जॉन लारेंस एवं सीले ने कहा कि "1857 का विद्रोह सिपाही विद्रोह मात्र था।"
  • जेम्स आउटूम एवं डब्ल्यू. बी. टेलर ने कहा कि "यह अंग्रेजों के विरुद्ध हिंदू एवं मुसलमानों का षड्यंत्र था।" •एल. आर. रीज ने कहा कि "यह धर्मांधों का ईसाइयों के विरुद्ध षडयंत्र था।"
  • बेंजामिन डिजरैली ने कहा कि "1857 का विद्रोह सचेत संयोग से उपजा राष्ट्रीय विद्रोह था।"
  • जवाहरलाल नेहरू ने कहा कि "सन् सत्तावन का विद्रोह सिपाही विद्रोह नहीं, अपितु स्वतंत्रता प्राप्ति के निमित्त भारतीय जनता का संगठित संग्राम था।"
  • विपिन चंद्र ने कहा कि "1857 का विद्रोह विदेशी शासन से राष्ट्र को मुक्त कराने का देशभक्तिपूर्ण प्रयास था।"

ग्रह (Planets) | Planets of Solar System in Hindi | सौरमंडल के ग्रह

सौरमंडल के ग्रह (planets of solar system) | What is the planet in Hindi

सौरमंडल के ग्रहों और ग्रह क्या होतें है, इनके बारे में जानकारी आपको इस पोस्ट में मिल जाएगी। General Knowledge of Planets of Solar System in Hindi

आपको जानकर हैरानी होगी कि प्लानेट नाम का अर्थ बहुत ही अजीब है- Planet एक लैटिन का शब्द है, जिसका अर्थ होता है इधर-उधर घूमने वाला।

Planets of Solar System in Hindi



हमारे सौर मंडल में आठ ग्रह हैं - बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण और वरुण। इनके अतिरिक्त तीन बौने ग्रह और हैं - सीरीस, प्लूटो और एरीस।


ग्रहों के नाम हिंदी और इंग्लिश में (Planets Name In Hindi-English)

Planet English Name Planet Hindi Name
Mercury (मर्करी) बुध (Budh)
Venus (वेनस) शुक्र (Shukra)
Earth (अर्थ) पृथ्वी (Prithvi)
Mars (मार्स) मंगल (Mangal)
Jupiter (जुपिटर) बृहस्पति (Brahspati)
Saturn (सैटर्न) शनि (Shani)
Uranus (युरेनस) अरुण (Arun)
Neptune (नेप्‍च्‍यून) वरुण (Varun)

ग्रह क्या होते है? (What are planets in hindi?)

ग्रह (प्लानेट- Planet)

  • सौर मंडल के ग्रह (Planets of Solar System)
  • वे आकाशीय पिंड जो सूर्य या अन्य किसी तारे का चक्कर लगाते हैं तथा जो तारों के प्रकाश से चमकते हैं, उन्हें ग्रह कहते हैं। 
  • सूर्य की तुलना में ग्रहों का आकार छोटा और तापमान कम होता है।
  • प्रत्येक ग्रह सूर्य के चारों और एक दीर्घवृत्तीय कक्षा में चक्कर लगाता है। 
  • मुख्य ग्रहों के अलावा हमारे सौरमंडल में 5 बौने (Dwary Planets) है यथा प्लूटो, सीरस, ट्राईस, मेकमेक और होमीया ) (Pluto, Ceres, Tris, ´Makemake, Haumea). 
  • यम (Pluto) को सन् 2006 से ग्रहों की सूची से बाहर निकाल दिया गया है। 
  • सभी ग्रह घड़ी की उल्टी दिशा में चक्कर लगाते हैं, जबकि शुक्र और अरुण घड़ी की सीधी दिशा में चक्कर लगाते हैं। 
  • सौरमंडल में सूर्य के चारों ओर 8 ग्रह चक्कर लगाते हैं। इनमें से छह ग्रह पृथ्वी, बुध, मंगल, बृहस्पति, शुक्र और शनि प्राचीनकाल से ही ज्ञात थे तथा अन्य तीन-अरुण, वरुण तथा यम की खोज दूरबीन के आविष्कार के बाद हुई।
  • सूर्य से बढ़ती दूरी के क्रम में ग्रह हैं- बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण, वरुण तथा यम यम की कक्षा सर्वाधिक दीर्घवृत्तीय (elliptical) है। सूर्य से इसकी कक्षा की निकटतम दूरी 4.4 बिलियन किलोमीटर और अधिकतम दूरी 7.3 बिलियन किलोमीटर है। 
  • सभी ग्रह सूर्य के चारों ओर वामावर्त दिशा में शु घूमते हैं। उनकी अपनी अक्षीय गति भी वामावर्त दिशा में ही होती है, लेकिन शुक्र और अरुण इसके अपवाद हैं। शुक्र की अक्षीय गति अन्य ग्रहों की तुलना में उल्टी होती है, जबकि अरुण अपने किनारों के गिर्द घूमता है। 
  • बृहस्पति, शनि, अरुण और वरुण विशाल ग्रह हैं। 
  • केवल पाँच ग्रह ऐसे हैं, जिन्हें नग्न आँखों से (पृथ्वी के अलावा) देखा जा सकता है- बुध, शुक्र, मंगल, बृहस्पति, शनि। 
  • ग्रह दो प्रकार के होते हैं-स्थलीय तथा जोवियन । 
  • जिन ग्रहों की रचना पृथ्वी के समान होती है, उन्हें स्थलीय या पार्थिव ग्रह कहते हैं। ये चार हैं- बुध, शुक्र, पृथ्वी तथा मंगल।
  • मंगल ग्रह की कक्षा के बाहर स्थित ग्रह, जोवियन ग्रह कहलाते हैं। ये भी चार ग्रह हैं- बृहस्पति, शनि, अरुण तथा वरुण । यम इन दोनों श्रेणियों में से किसी में भी नहीं आता है। 
  • सूर्य से ग्रहों की दूरी के आधार पर सौरमंडल के ग्रहों को दो भागों में विभाजित किया जाता है-आंतरिक ग्रह तथा बाह्य ग्रह|
  • आंतरिक ग्रहों में बुध, शुक्र, पृथ्वी तथा मंगल ग्रह आते हैं। 
  • बाह्य ग्रहों में बृहस्पति, शनि, अरुण, वरुण तथा यम आते हैं। 
  • सौरमंडल के बाह्य भाग वाले ग्रह आंतरिक भाग वाले ग्रहों की अपेक्षा काफी दूर हैं
  • आकार की दृष्टि से विभिन्न ग्रह (बड़े से छोटे ) इस प्रकार हैं- बृहस्पति, शनि, अरुण, वरुणपृथ्वी, शुक्र, मंगल एवं बुध । 
  • सूर्य से बढ़ती दूरी के आधार पर विभिन्न ग्रह इस प्रकार हैं- बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण एवं वरुण । 

बुध (मरकरी- Mercury) 

  • बुध ग्रह हमारे सौरमंडल का पहला ग्रह है।
  • यह सूर्य से सबसे पास स्थित है। 
  • इसका कोई उपग्रह नहीं हैं। यहाँ जीवन नहीं है। 
  • सूर्य का एक चक्कर लगाने में बुध को 88 दिन लगते है, जो सबसे कम है। 
  • इस ग्रह में चुंबकीय क्षेत्र नहीं पाया जाता है । 
  • इसका व्यास 4,849.6 किमी. है तथा इसकी सूर्य से औसत दूरी 5.76 करोड़ किलोमीटर है।


शुक्र (वीनस- Venus)

  • शुक्र ग्रह हमारे सौरमंडल का दूसरा ग्रह है।
  • यह सबसे चमकीला ग्रह है। इसका तापमान लगभग 500° सेंटीग्रेड है 
  • यह सबसे गर्म ग्रह है। 
  • यह एक शुष्क ग्रह है तथा यहाँ जीवन का अभाव है। 
  • इसे सूर्य का एक चक्कर लगाने में 225 दिन लगते हैं। 
  • इस ग्रह में सल्फ्यूरिक अम्ल के घने बादल छाए रहते हैं। 
  • शुक्र के वायुमंडल का 96 प्रतिशत भाग कार्बन डाइ ऑक्साइड और 3.5 प्रतिशत भाग नाइट्रोजन है।
  • शुक्र ग्रह पूर्व से पश्चिम की तरफ अपने अक्ष पर घूर्णन करता है, अतः यहाँ सूर्योदय पश्चिम की तरफ होता है।
  • शुक्र को भोर का तारा (morning star), सांध्य का तारा (evening star), पृथ्वी का जुड़वाँ तारा, पृथ्वी की बहन आदि नामों से भी जाना जाता है। 
  • शुक्र का व्यास 12,032 किमी. है तथा इसकी सूर्य से औसत दूरी 10.75 करोड़ किमी. है।


पृथ्वी (अर्थ- Earth)

  • पृथ्वी सौरमंडल में सूर्य से तीसरा ग्रह है। 
  • यह एकमात्र ऐसा ग्रह है, जिस पर जीवन है। 
  • पृथ्वी की उत्पत्ति के संदर्भ में नवीनतम सिद्धांत, बिगबैंग या महाविस्फोट सिद्धांत है। 
  • अंतरिक्ष से देखने पर पृथ्वी ग्रह, एक नीले तथा चमकीले गोले के समान दिखाई देता है। 
  • पृथ्वी गोलाकार है। इसके 71 प्रतिशत भाग पर जल एवं 29 प्रतिशत भाग पर स्थल है। 
  • पृथ्वी उत्तरी व दक्षिणी ध्रुवों पर चपटी है, इसलिए ध्रुवों पर लिये गए पृथ्वी के व्यास व भूमध्यरेखा पर लिये गए पृथ्वी के व्यास में अंतर है। पृथ्वी अपने अक्ष पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है। यह अवधि 23 घंटे 56 मिनट 4 सेकेंड है। घूर्णन की इसी घटना के कारण दिन एवं रात होते हैं
  • विषुवत रेखा पर घूर्णन की यह गति 1610 किमी. प्रति घंटा, 60° पर 850 किमी प्रति घंटा तथा ध्रुवों पर शून्य होती है।
  • पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर एक निश्चित दीर्घवृत्ताकार पथ पर 29.72 किमी प्रति सेकेंड की दर से परिक्रमण करती है। इस परिक्रमण की अवधि 365 दिन, 5 घंटे एवं 48 मिनट और 46 सेकेंड अर्थात 3651/4 होती है। चौथाई दिवस प्रतिवर्ष फरवरी महीने में जुड़ जाता है, जिससे उस वर्ष फरवरी 29 दिनों की होती है। इसे लीप वर्ष कहते हैं
  • पृथ्वी के परिक्रमण तथा अक्ष पर झुकाव कारण ही ऋतु परिवर्तन होते हैं। 

मंगल (मार्स- Mars)

  • मंगल ग्रह हमारे सौरमंडल का चौथा ग्रह है।
  • मंगल अपने अक्ष पर पृथ्वी की तरह ही झुका हुआ है. इसी वजह से यहाँ पृथ्वी की तरह ही मौसम परिवर्तन की घटनायें होती हैं। इसका व्यास 6755.2 किमी. है तथा सूर्य से इसकी दूरी 22.56 करोड़ किमी. है। 
  • मंगल ग्रह को लाल ग्रह भी कहा जाता है। 
  • मंगल 687 दिनों में सूर्य की परिक्रमा करता है। 
  • यहाँ भारी मात्रा में Feo पाया जाता है। 
  • मंगल पर सबसे बड़ा ज्वालामुखी ओलम्पस मोन्स (Olympus mons) है। मंगल के दो चंद्रमा भी हैं, जिन्हें फोमोस और डीमोस कहते हैं। 
  • मंगल में एवरेस्ट पर्वत से तीन गुनी ऊँची चोटी स्थित है, जिसका नाम निक्स ओलम्पिया है।


बृहस्पति (जुपिटर- Jupiter)

  • बृहस्पति ग्रह हमारे सौरमंडल का पांचवां ग्रह है।
  • आकार की दृष्टि से वृहस्पति सबसे बड़ा ग्रह है, जो पृथ्वी से लगभग 1300 गुना बड़ा है। इसकी गति भी अन्य ग्रहों की तुलना में तीव्र है।
  • बृहस्पति का तापमान - 150°C है। 
  • बृहस्पति के वायुमंडल में हाइड्रोजन और हीलियम की प्रधानता है। इसमें शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र भी पाया जाता है। 
  • इसका व्यास 1,41,968 किमी. है तथा इसकी सूर्य से औसत दूरी 77.28 करोड़ किमी. है। 
  • इसके 63 उपग्रह हैं जिनमें से गैनीमीड सबसे बड़ा है।


शनि (सैटर्न- Saturn)

  • शनि ग्रह हमारे सौरमंडल का छठां ग्रह है तथा बृहस्पति के बाद सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह हैं।
  • शनि के चारो तरफ चक्र या छल्ले पायें जाते है, जिसे वलय (ring) कहतें है।
  • खगोल विज्ञान के अनुसार शनि का व्यास पृथ्वी के व्यास से 9 गुना ज्यादा है जबकि घनत्व 8 गुना कम है।


अरुण (यूरेनस- Uranus)

  • अरुण ग्रह हमारे सौरमंडल का सातवाँ ग्रह है।
  • अरुण आकार में तीसरा सबसे बड़ा ग्रह है।
  • अरुण ग्रह को "लेटा हुआ ग्रह" कहा जाता है, क्योंकि यह अपनी धुरी पर सूर्य की ओर इतना झुका हुआ है कि लेटा हुआ दिखाई देता है।
  • अरुण ग्रह अकार में पृथ्वी से 63 गुना अधिक बड़ा है।
  • अरुण ग्रह को बिना दूरबीन के आँख से भी देखा जा सकता है।
  • युरेनस ग्रह का द्रव्यमान पृथ्वी की तुलना में 14.5 गुना है।

वरुण (नॅप्चयून- Neptune)

  • वरुण ग्रह हमारे सौरमंडल का आठवाँ ग्रह है।
  • वरुण का द्रव्यमान पृथ्वी से 17 गुना अधिक है।
  • वरुण सूरज से बहुत ही ज्यादा दूर है, इसलिए इसका ऊपरी वायुमंडल बहुत ही ठंडा है और वहाँ का तापमान -128 C° (55 कैल्विन) तक गिर सकता है।

सौर मंडल ग्रह जीके हिंदी में (Solar System Planets GK in hindi)

1 सबसे चमकीला ग्रह शुक्र (Venus
2 सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति (Jupiter)
3 सबसे छोटा ग्रह बुध (Mercury)
4 सूर्य के सबसे पास स्थित ग्रह बुध (Mercury)
5 सूर्य के सबसे दूर स्थित ग्रह वरुण (Neptune)
6 पृथ्वी के सबसे पास स्थित उपग्रह शुक्र (Venus)
7 पृथ्वी का उपग्रह चंद्रमा (Moon)
8 सबसे अधिक उपग्रहों वाला ग्रह बृहस्पति (Jupiter)
9 सबसे ठंडा ग्रह वरुण (Neptune)
10 सबसे गर्म ग्रह बुध (Mercury)
11 सबसे भारी ग्रह बृहस्पति (Jupiter)
12 सबसे चमकीला तारा साइरस (Dog star)
13 सौरमंडल का सबसे छोटा उपग्रह डी मोस (Deimos)
14 सौरमंडल का सबसे बड़ा उपग्रह गैनिमेडे (Ganymede)
15 लाल ग्रह मंगल (Mars)
16 नीला ग्रह पृथ्वी ( Earth)
17 पृथ्वी की बहन भोर का तारा शुक्र (Venus)
18 साँझ का तारा शुक्र (Venus)
19 सुंदरता का देवता शुक्र (Venus)
20 हरा ग्रह वरुण (Neptune)