Active Study Educational WhatsApp Group Link in India
Showing posts with label History. Show all posts

RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की पूरी जानकारी

RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009

इस पोस्ट में हम आपके लिए लेकरआये हैं RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जैसे की RTE Act 2009 क्या है ? RTE Act का फुल फॉर्म क्या हैं और RTE Act 2009 में कब किस दिन लागु हुआ था ? RTE Act 2009 के क्या उदेश्य हैं और शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 का इतिहास क्या हैं | 

RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की पूरी जानकारी

शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी इन सभी बिन्दुओ की जानकारी विस्तार पूर्वक निचे दिया गया है आपके जानकारी के लिए बता की RTE Act 2009 से जुड़े कई प्रश्न सेट्रल गवर्मेंट के परीक्षा में कई बार पूछे जा चुके हैं जैसे की RTE Act 2009 कब लागु हुआ था RTE Act 2009 के क्या उद्देश्य हैं | 

“हर घर में हो साक्षरता का वास, तभी तो होगा देश का विकास” किसी भी विकसित या विकासशील देश की सबसे बड़ी ताकत होते है उस देश के युवा और बच्चे। इसलिए भारत में शिक्षा के विकास के लिए RTE Act यानि राइट टू एजुकेशन एक्ट लाया गया। RTE Act के तहत 6-14 वर्ष तक की आयु वाले बच्चों को निःशुल्क व अनिवार्य शिक्षा के लिए क़ानूनी अधिकार प्राप्त है। पर बहुत ही कम लोग होंगे जिन्हें ‘शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009’ (RTE Act 2009 in Hindi) के बारे में विस्तृत जानकारी होगी।

RTE Act 2009 के 38 अनुच्छेद

  • संक्षिप्त नाम और विस्तार
  • परिभाषा
  • निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा
  • प्रवेश ना दिए गए बालकों को या जिन्होंने प्राथमिक शिक्षा पूरी नहीं की है के लिए विशेष उपबंध
  • अन्य विद्यालय में स्थानांतरण का अधिकार
  • राज्य सरकारों और स्थानीय पदाधिकारियों को विद्यालय स्थापित करने के कर्तव्य
  • वित्तीय तथा अन्य उत्तरदायित्व में हिस्सा बांटना
  • राज्य सरकारों के कर्तव्य
  • स्थानीय पदाधिकारियों के कर्तव्य
  • माता पिता और संरक्षक का कर्तव्य
  • राज्य सरकारों का विद्यालय पूर्व शिक्षा के लिए व्याख्या करना
  • निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा के लिए विद्यालय के उत्तर की सीमा
  • एडमिशन या प्रवेश के लिए किसी प्रति व्यक्ति फीस और अनुवीक्षण प्रक्रिया का ना होना
  • प्रवेश के लिए आयु का सबूत
  • एडमिशन से इंकार ना करना
  • रोकने और निष्कासन का प्रावधान
  • बालक को शारीरिक दंड और मानसिक उत्पीड़न का प्रतिषेध
  • मान्यता प्रमाण पत्र प्राप्त किए बिना किसी विद्यालय का स्थापित ना किया जाना
  • विद्यालय के मान और मानक
  • अनुसूची का संशोधन करने की शक्ति
  • विद्यालय प्रबंधन समिति
  • विद्यालय विकास योजना
  • शिक्षकों की नियुक्ति के लिए योग्यतायें और सेवा के निबंधन और शर्तें
  • छात्र शिक्षक अनुपात
  • शिक्षकों की रिक्तियों का भरा जाना
  • गैर शैक्षिक प्रयोजनों के लिए शिक्षकों को अभिनियोजित किए जाने का प्रतिषेध
  • पाठ्यक्रम और मूल्यांकन प्रक्रिया
  • परीक्षा और समापन प्रमाण पत्र
  • बालक के शिक्षा के अधिकार को मॉनिटर करना
  • शिकायतों को दूर करना
  • राष्ट्रीय सलाहकार परिषद का गठन
  • राज्य सलाहकार परिषद का गठन
  • निर्देश जारी करने की शक्ति
  • अभिनियोजन नियोजन के लिए पूर्व मंजूरी
  • सद्भावपूर्वक की गई कार्रवाई के लिए संरक्षण
  • राज्य सरकारों के नियम बनाने की शक्ति

RTE Full Form in Hindi

RTE Ka Full Form – Right To Education Act / शिक्षा का अधिकार अधिनियम (Right Of Children To Free And Compulsory Education Act) है। हिंदी में RTE Full Form – “निशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009” के नाम से भी जाना जाता है।

तो यहाँ हमने जाना की RTE Ka Full Form – Right To Education Act हैं आगे आपको बताया गया हैं की RTE एक्ट कब लागु हुआ था |

RTE Act Kab Lagu Hua

शिक्षा का अधिकार अधिनियम भारतीय संसद द्वारा 4 अगस्त 2009 को पारित किया गया था तथा जो 1 अप्रैल 2010 से सम्पूर्ण भारत में प्रभावी हुआ।

राइट टू एजुकेशन इन इंडिया

भारतीय संविधान दुनिया का सबसे लचीला और विस्तृत संविधान है। Right To Education Act के लागू होने के बाद भारत भी उन 135 देशों की सूची में सम्मिलित हो गया है। जहां बच्चो के लिए अनिवार्य तथा मुफ्त शिक्षा का प्रावधान है।

अधिनियम का इतिहास

दिसंबर 2002 को भाग-3 के अनुच्छेद 21(a) के माध्यम से 86वें संशोधन विधेयक के तहत 6 से 14 वर्ष के सभी बच्चों को मुफ्त, नियमित एवं अनिवार्य शिक्षा के अधिकार को मौलिक अधिकार माना गया।

इस पोस्ट में हमने जानना की  RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जैसे की RTE Act 2009 क्या है ? RTE Act का फुल फॉर्म क्या हैं और RTE Act 2009 में कब किस दिन लागु हुआ था ? RTE Act 2009 के क्या उदेश्य हैं और शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 का इतिहास क्या हैं | 

KEYWORD

  • rte act 2009 in hindi pdf
  • rte act 2009 pdf
  • आरटीई अधिनियम 2009 में संशोधन
  • शिक्षा के अधिकार की चुनौतियां pdf
  • राइट टू एजुकेशन क्या है उत्तर
  • शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 जम्मू-कश्मीर में कब लागू हुआ

आप से निवेदन है की इस RTE Act 2009 in Hindi – शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 से जुडी इस जानकारी को सोशल मीडिया में अपने उन दोस्तों के साथ शेयर जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहें हो | 

GK

  1. मुगल काल से संबंधित महत्वपूर्ण जीके
  2. राष्ट्रीय आंदोलन की महत्वपूर्ण तिथियां
  3. एशिया - एक नजर में
  4. 1-100 हिन्दी English Ordinal and Roman गिनती Chart List
  5. दुनिया के प्रसिद्ध और जाने माने वैज्ञानिक
  6. विभिन्न भाषाओं के महान कवि और लोकप्रिय कवि
  7. GK Question Answer in Hindi 2022

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी | Revolution of 1857 (The Indian rebellion)

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी (Special information about the Revolt of 1857 or the Indian Rebellion)

1857 की क्रांति अंग्रेजी शासन को हटाने का भारतीयों का प्रथम संगठित प्रयास था। इस समय भारत का गवर्नर जनरल लार्ड कैनिंग एवं मुख्य सेनापति ऐनसन था। यह विद्रोह उपनिवेशवादी नीतियों एवं शोषण का परिणाम था। इस विद्रोह के कई कारण थे, जिनमें राजनीतिक, आर्थिक, प्रशासनिक, सैनिकसामाजिक एवं धार्मिक कारण सभी थे।

Revolution of 1857 (The Indian rebellion)

इस विद्रोह का तात्कालिक कारण चर्बीयुक्त कारतूसों का प्रयोग था। 1857 का विद्रोह 29 मार्च 1857 को बैरकपुर (प.बंगाल) की छावनी से प्रारंभ हुआ तथा मई, 1857 में मेरठ के सैनिकों ने भी अंग्रेजी शासन के विरुद्ध विद्रोह का बिगुल बजा दिया। मेरठ छावनी के सैनिक मंगल पांडे ने नये कारतूसों के विरुद्ध आवाज उठायी तथा 8 अप्रैल, 1857 को उन्हें फाँसी दे दी गई मंगल पांडे 34 इन्फैन्ट्री राइफल के जवान थे। इसके बाद यह विद्रोह तेजी से पूरे देश में फैल गया तथा अलग-अलग स्थानों पर इसे अलग-अलग लोगों ने नेतृत्व प्रदान किया।

1857 की क्रांति या भारतीय विद्रोह की खास जानकारी -

  • इस विद्रोह की वास्तविक शुरुआत 10 मई 1857 ईको मेरठ से हुई थी। 
  • अंग्रेजों को खदेड़ने के लिए प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नींव साल 1857 में सबसे पहले मेरठ के सदर बाजार में भड़की, जो पूरे देश में फैल गई थी।
  • इस विद्रोह के शुरू होने की पूर्व निर्धारित तिथि 31 मई, 1857 थी।
  • 10 मई 1857 में शाम पांच बजे जब गिरिजाघर का घंटा बजा, तब लोग घरों से निकलकर सड़कों पर एकत्रित होने लगे थे।
  • 9 मई 1857 को कोर्ट मार्शल में चर्बीयुक्त कारतूसों को प्रयोग करने से इंकार करने वाले 85 सैनिकों का कोर्ट मार्शल किया गया था।
  • 10 मई 1857 की शाम को ही इस जेल को तोड़कर 85 सैनिकों को आजाद करा दिया था।
  • दिल्ली के सम्राट बहादुरशाह जफर कर रहे थे परन्तु यह नेतृत्व औपचारिक एवं नाममात्र का था।
  • 1857 विद्रोह के अन्नेय तृत्वकर्ता - जनरल बख्त खां (सैनिक नेतृत्व ) एवं बहादुरशाह जफर (असैनिक नेतृत्व), बेगम हजरत महल एवं विरजिस कादिर, नाना साहब (अंतिम पेशवा बाजीराव द्वितीय के दत्तक पुत्र), रानी लक्ष्मीबाई (राजा गंगाधरराव की विधवा), तात्या टोपे, मौलवी अहमद उल्ला (मूलत: मद्रास के बाद में फैजाबाद आ गए), खान बहादुर, कुंवर सिंह (जगदीशपुर की आरा रियासत के शासक), राव तुला राम 
  • 1857 विद्रोह के केंद्र - दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, झाँसी, ग्वालियर, फैजाबाद, बरेली, बिहार और फरीदाबाद।
  • 1857 के विद्रोह को दबाने में अंग्रेजों के कई प्रमुख सेनापतियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ये इस प्रकार थे- 
    • 1.दिल्ली (लेफ्टिनेंट हडसन, लेफ्टिनेंट विलोवी, जॉन निकोलसन), 
    • 2. लखनऊ (जेम्स आउट्रम, हेनरी लारेंस, ब्रिगेडियर इंग्लिशहेनरी हैवलॉक, सर कोलिन कैम्पवेल), 
    • 3. झाँसी (सर ह्यू रोज), 
    • 4. कानपुर (कोलिन कैम्पबेल, सर ह्यू व्हीलर) एवं 
    • 5. बनारस (कर्नल जेम्स नील)। 
  • 1857 के इस विद्रोह की असफलता का प्रमुख कारण विद्रोहकर्ताओं में योग्य नेतृत्व एवं सामंजस्य का अभाव था। 
  • इस विद्रोह में सिंधिया, निजाम, भोपाल के नवाब आदि ने अंग्रेजों का साथ दिया था। 
  • इस विद्रोह के बाद ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का अंत हो गया एवं ताज का शासन प्रारंभ हो गया।
  • सेना का पुनर्गठन एवं उसमें भारतीयों की संख्या में कमी की गई।
  • अंग्रेजों ने फूट डालो एवं राज करो की नीति अपना ली। 
  • इस विद्रोह के बारे में वीर सावरकर ने कहा कि "1857 का विद्रोह स्वधर्म और राजस्व के लिए लड़ा गया राष्ट्रीय संघर्ष था।" आर. सी. मजूमदार ने कहा कि "यह न तो प्रथम था, न ही राष्ट्रीय था और यह स्वतंत्रता के लिए संग्राम भी नहीं था।"
  • जॉन लारेंस एवं सीले ने कहा कि "1857 का विद्रोह सिपाही विद्रोह मात्र था।"
  • जेम्स आउटूम एवं डब्ल्यू. बी. टेलर ने कहा कि "यह अंग्रेजों के विरुद्ध हिंदू एवं मुसलमानों का षड्यंत्र था।" •एल. आर. रीज ने कहा कि "यह धर्मांधों का ईसाइयों के विरुद्ध षडयंत्र था।"
  • बेंजामिन डिजरैली ने कहा कि "1857 का विद्रोह सचेत संयोग से उपजा राष्ट्रीय विद्रोह था।"
  • जवाहरलाल नेहरू ने कहा कि "सन् सत्तावन का विद्रोह सिपाही विद्रोह नहीं, अपितु स्वतंत्रता प्राप्ति के निमित्त भारतीय जनता का संगठित संग्राम था।"
  • विपिन चंद्र ने कहा कि "1857 का विद्रोह विदेशी शासन से राष्ट्र को मुक्त कराने का देशभक्तिपूर्ण प्रयास था।"

अंतर्राष्ट्रीय जगहों के प्रमुख मामले (Major Matters of International Places)

अंतर्राष्ट्रीय जगहों के प्रमुख मामले और उनकी जानकारी (Major matters of international places and their knowledge)

हमारे देश भारत के अलावा जितने और भी मामले पूरी दुनियाभर में घटित होते रहते उन्हें हम अंतर्राष्ट्रीय मामलों का नाम दे सकते हैं। निचे आपको इन्ही में से कुछ अंतर्राष्ट्रीय जगहों और उनके प्रमुख मामलों की जानकारी दे रहें हैं।

Major matters of international places and their knowledge

    लेह - पहला फील्ड स्टेशन

    लद्दाख क्षेत्र में पर्यावरण सम्बन्धी समस्याओं से निपटने के लिए सरकार ने बर्फीले मरुस्थल लेह में फील्ड स्टेशन स्थापित करने के लिए अपनी मजूरी दे दी है। यह फील्ड स्टेशन अल्मोड़ा स्थित जीबी पन्त हिमालय पर्यावरण विकास संस्थान द्वारा स्थापित किया जायेगा। यह अपनी तरफ का पहला फील्ड स्टेशन होगा, जिसके पश्चिम में पाकिस्तान और पूर्व में चीन की सीमा लगी होगी।


    दिशनगढ़ - सबसे बड़ा ऊर्जा संयंत्र

    आसनसोल के दिशनगढ़ में देश का सबसे बड़ा दो मेगावाट और पीपी ऊर्जा संयंत्र स्थापित किया जायेगा। इस बिजली संयत्र की स्थापना के लिए 30.9 करोड़ रूपए का ऋण देने हेतु पश्चिम बंगाल ग्रीन एनर्जी डेवलपमेंट कॉर्पोरशन लिमिटेड और पॉवर फाइनेंस कारपोरेशन के बिच समझौता हुआ।

    गढ़ी मोलाली गाँव - दस हज़ार साल पूर्व के शैलचित्र

    भारत के विश्व प्रसिद्द ऐतिहासिक स्थल भीमबेटका में मिले शैलचित्रो के सामान ही मध्यप्रदेश के सागर शहर से करीब 10 किमी दूर स्थित गढ़ी मोलाली गाँव के आस पास की पहाडियों में दस हज़ार साल इसा पूर्व से भी पहले के शैलचित्रो का पता चला है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग व सागर विश्वविद्यालय के प्राचीन विभाग द्वारा किये गए संयुक्त सर्वेक्षण में यहाँ स्थित दर्जनों गुफाओ की दीवारों  पर बड़ी संख्या में लाल, पीले व सफ़ेद रंगों में उकेरी गयी आकृतिया मिली। सर्वेक्षण दल के कथनानुसार ये शैलचित्र प्राचीन व संख्या के नज़रिए से भीमबेटका में मिले शैलचित्रो के समकक्ष ही है।


    तक्षशीला - भगवान् बुद्ध की 2,000 वर्ष पुरानी प्रतिमा

    पाकिस्तान पुरातत्वविदों को ऐतिहासिक शहर तक्षशीला से भगवान् बुद्ध की 2,000 वर्ष पुरानी एक दुर्लब प्रतिमा प्राप्त हुई है। यह प्रतिमा लाल बालू पत्थर (सेंडस्टोन) की बनी हुई है। 13,312 सेमी की इस प्रतिमा में भगवन बुद्ध आसन मारकर एक सिंहासन पर बैठे हुए है , जिसे दो सिंहो ने सहारा दे रखा है।


    लन्दन - सबसे महंगा व गन्दा शहर

    एक सर्वे में लन्दन को यूरोप का सबसे महंगा व गन्दा शहर बताया गया है। पर्यटन से जुडी एक संस्था ‘ट्रिप एडवाइज़र’ द्वारा सेलानियो के बीच कराये गये सर्वे में यह बात सामने आई है। लेकिन, इन सबके बावजूद रात बिताने के लिए पर्यटक लन्दन को सबसे पहली पसंद मानते है। इस सर्वे में शौपिंग के लिहाज़ से लन्दन दुसरे स्थान पर आया है।


    चिली – पहला अंटार्कटिका संग्रहालय

    चिली के पुन्टा अरेना शहर में दुनिया का पहला अंटार्कटिका संग्रहालय स्थापित किया जायेगा। इस संग्रहालय में लोगो को अंटार्कटिक से जुड़े विभिन्न पहलुओ को जानने का अवसर मिलेगा। इस संग्रहालय के निर्माण में 2 करोड़ डॉलर खर्च किये जायेंगे।लगभग तीन वर्षो  में संग्रहालय का निर्माण कार्य पूरा होगा।


    मिस्र – 7,000 वर्ष पुराने शहर

    अमेरिका के पुरातात्वेताओ ने मिस्त्र के फडयूम नखलिस्तान में 7,000 वर्ष पुराने शहर के अवशेषों की खोज की है। इन अवशेषों को नए पाषाण यूग में 5200 ईसा पूर्व से 4500 ईसा पूर्व के बीच का बताया जा रहा है।


    यांगून - भीषण चक्रवर्ती तूफ़ान ‘नर्गिस’

    चक्रवर्ती तूफ़ान ‘नर्गिस’ – 4 मई , 2008 को म्यांमार की राजधानी यांगून में भीषण चक्रवर्ती तूफ़ान ‘नर्गिस’ की चपेट में आने के कारण 243 लोगो की मृत्यु हो गयी। यह तूफ़ान इस क्षेत्र में आये सभी तुफानो में भीषण व तबाहिपूर्ण था। 


    प्रदुषण फ़ैलाने में नम्बर वन बना चीन – 

    एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका को पीछे छोड़कर चीन अब सबसे अधिक प्रदुषण फ़ैलाने वाला देश बन गया है। चीन में ग्रीन हाउस गैसों के  उत्सर्जन का स्तर अमेरिका के 2006-7 के स्तर को पार गया है। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के अनुसार अनुसंधानकर्ताओ की यह रिपोर्ट मई माह में जर्नल इनवायरमेंट इकोनोमिक्स एंड मैनेजमेंट में प्रकाशित होंगी। इस रिपोर्ट में चेतावनी दी गयी है की अगर चीन ने अपनी उर्जा निति में व्यापक फेरबदल नहीं किये तो वहाँ  ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन क्योटो संधि  में तय मानको से कई गुना अधिक् हो जायेगा। 


    गांधी के आदर्शो को मान्यता देगी यूरोपीय संसद – 

    अब यूरोपीय संसद (ईपी) ने भी मान लिया है की गांधीवाद का कोई जबाब नहीं है। असल, में यूरोपीय संसद ने अपनी एक वार्षिक रिपोर्ट में महात्मा गांधी के अहिंसावाद को मानवाधिकार के सिद्दांतो को सुनुश्चित करने के लिए एकदम सटीक बताया है रिपोर्ट में यह भी प्रस्ताव किया गया है की यूरोपीय यूनियन के मानवाधिकार और जनतांत्रिक निति में गांधीवाद का प्रोत्साहन प्राथमिकता से किया जाना चाहिए। ‘वैश्विक मानवाधिकार 2007’ के मान से पेश यूरोपीय संसद की इस रिपोर्ट में कहा गया है की केंद्रीय राजनैतिक भूमिका के तौर पर गांधीवाद के सिद्दांतो को शामिल करने के लिये वर्ष 2009 में अहिंसा पैर यूरोपीय कांग्रेस बुलाई जाये और वर्ष 2010 को ‘यूरोपीय इयर ऑफ़ नॉन वायलेंस’ घोषित किया जाए। रिपोर्ट में यूरोपीय संगठन के सदस्यों से संयूक्त राष्ट्र में वर्ष 2010 से 2020 के दशक को ‘अहिंसा का दशक’ घोषित करने के लिए प्रयास करने का आह्वान किया गया है। यूरोपीय संसद के विदेश मामलों की समिति द्वारा अप्रैल में स्वीकृत इस रिपोर्ट पर 8 मई को यूरोपीय संसद के पूर्ण सत्र में वोटिंग होंगी।


    नेपाल में संविधान सभा के लिए चुनाव – 

    10 अप्रैल को नेपाल में संविधान सभा के लिए हुए चुनाव में माववादी पार्टी को प्रचंड के नेत्तृत्व में जबरदस्त सफलता मिली। नेपाली कांग्रेस तथा कम्यूनिष्ठ पार्टी को इस चुनाव में करारा झटका लगा। चुनाव के बाद नेपाल के राजशाही के समाप्त होने के आसार बन गये है।


    भूटान में प्रथम संसदीय निर्वाचन – 

    भूटान में 24 मार्च, 2008 को हुए ऐतिहासिक प्रथम संसदीय चुनाव पुरिब्तारह से एक तरफा रहे। चुनाव परिणामो में द्रुक फुएंसम शोगपा (डीपीटी) ने कुल 47 में से 44 सीटो पैर कब्ज़ा जमा लिया। डीपीटी का नेतृत्व पूर्व प्रधानमन्त्री जिग्मे शिनले कर रहे थे। इस चुनाव से देश में पिछले एक सदी से चले आ रहा राजशाही का दौर ख़त्म हो रहा है और लोकतंत्र की स्थापना की जा रही है। कोई असर पड़ता नज़र नही आया और उन्होंने बचीं की तानाशाही नीतियों के खिलाफ अपना प्रदर्शन जारी रखा।


    म्यांमार में वर्ष 2010 में होंगे आम चुनाव – 

    म्यांमार की सैन्य सरकार ने 8 फ़रवरी , 2007 को घोषणा की कि देश में आम चुनाव वर्ष 2010 में करवाए जायेंगे। सैन्य शाशन जुंटा के अनुसार नए संविधान को प्रभावी बनाने के लिए आवश्यक जनमत संग्रह मई , 2007 में कराया गया। यह पहला अवसर था , जब सैन्य सरकार ने लोकतंत्र की दिशा में अपनी योजना के लिए किसी तथ्य का निर्धारण किया।  


    प्रवासी कर –

    ग्रेट ब्रिटेन सर्कार यूरोपीय संघ से बाहर के देशो से आने वाले प्रवासियों से प्रवासी कर (Migration tax) वसूलेगी। यह कर तब तक वसूलेगी , जब तक प्रवासी/प्रवासियों को ब्रिटेन की पूर्णतः नागरिकता नहीं मिल जाती। इस कर के आरोपण के के पीछे का तर्क यह है की बाहर से आने वाले लोग ब्रिटेन की सेवाओ यथा- स्वास्थ्य एवं शिक्षा का उपभोग करेंगे। इन सेवाओ के उपभोग करने के कारण ही प्रवासियों से प्रवासी कर वसूला जायेगा। यह कर बुजुर्गो एवं अपने बच्चो के साथ आने वाले लोगो को अधिक देना होगा , क्योकि उपर्युक्त सेवाओ का सर्वाधिक उपयोग ये ही करेंगे। वसूले गये कर को प्रस्तावित ‘ब्रिटिश न्याय कोष’ में जमा कराया जायेगा, जिसे सेवा उपलब्बध कराने वाले संगठनो को दिया जायेगा। इस न्याय कोष में 15 मिलियन पौंड संगृहीत होने कका अनुमान है। 


    कोसोवा ने स्वतंत्रता की घोषणा की –

    सर्बिया के प्रति कोसोवा ने 17 फ़रवरी, 2008 को सार्वभौम स्वतंत्रता की घोषणा कर दी। स्वतंत्रता की घोषणा के पश्चात् कोसोवा में संयूक्त राष्ट्र की जगह यूरोपीय मिशन के लोग आ जायेंगे। इस मिशन का नेतृत्व डच राजनईक पीटर फीथ के हाथ में होगा।


    मानव तस्करी के खिलाफ संयूक्त राष्ट्र संघ का नया संघर्ष – 

    दुनियाभर में मानव तस्करी की रोकथाम सम्बन्धी समझौते को लागू करने वाली प्रमुख संस्था संयूक्त राष्ट्र मादक पदार्थ एवं अपराध रोकथाम कार्यालय ‘यूएनओडीसी’ ने इसके खिलाफ लडाई तेज करने के लिए संयूक्त राष्ट्र वैश्विक मानव तस्करी संघर्ष पहल ‘यूनगिफ्ट’ शुरू की है। इसका उद्देश्य मानव तस्कारी के खिलाफ जागरूकता बढाना , मानव तस्करी सम्बंधित आकड़ो के आधार को मजबूत करना और तकनिकी सहायता बढाना है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए विऐना में फ़रवरी, 2008 में मानव तस्करी के विषय पर विश्व सम्मलेन का आयोजन किया गया। इस सम्मलेन में मानव तस्करी के मूल कारणों , उसके सामाजिक व आर्थिक प्रभावों तथा इसे समाप्त करने के लिए आवश्यक उपायों पर जोर दिया गया। 


    साइप्रस व माल्टा यूरो अपनाने वाले देशो में शामिल – 

    यूरोपीय संघ (EU) के दो अन्य देश- माल्टा व साइप्रस ने 1 जनवरी , 2008 से यूरोप की एकीकृत मुद्रा- यूरो (Euro) को अपना लिया है। इससे यूरो मुद्रा वाले दशो की कुल, संख्या अब 15 हो गयी है। इससे पूर्व माल्टा में ‘माल्टीस लीरा’ तथा साइप्रस के ‘साइप्रस पाउंड’ प्रचलन में थे। साइप्रस में केवल दक्षिणी ग्रीक-भाषी क्षेत्र में ही यूरो को अपनाया गया है। उत्तरी टर्किश साइप्रस में पूर्ववत ‘टर्किश लीरा’ ही चलन में बरकरार है। उल्लेखनीय है की यूरोप के 12 देशो ने अपनी पृथक मुद्राओं के स्थान पर यूरो को 1 जनवरी , 2002 से अपनाया था। बाद में ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, फ़िनलैंड, इटली, लक्सम्बर्ग, नीदरलैंड,पुर्तगाल व स्पेन द्वारा भी ‘यूरो’ अपना लिए जाने से यूरो वाले देशो की संख्या 13 हो गयी थी। 


    पहले अफ़्रीकी उपग्रह का प्रक्षेपण सफल – 

    फ्रेंच गुआना के कोरु अन्तरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपित किये गये यूरोप के ‘एरियन 5’ राकेट ने 21 दिसम्बर , 2007 को अंतरिक्ष कक्ष में दो उपग्रहों को स्थापित किया , जिनमे पहला पैन- अफ़्रीकी संचार उपग्रह शामिल था। लांच लिए जाने के आधे घंटे बाद एरियन 5 ने अफ्रीका के ‘आरएससीओएम-क्यूएफ-1’ और अमेरिका के ‘होराज़न-2’ उपग्रह को कक्ष में स्थापित कर दिया। एरियन का यह साल का छठा सफल प्रक्षेपण था। 


    शेंजेन समझौते में पूर्वी यूरोप के नौ देश शामिल - 

    यूरोप के भूतपूर्व इंस्टर्न ब्लॉक के नौ देशों चेक गणराज्य, एस्तोनिया, हंगरी, लाटवियालिथुआनिया, माल्टा, पोलैण्ड, स्लोवाकिया और स्लोवेनिया ने 21 दिसम्बर, 2007 को यूरोपीय जोन में शामिल होने के लिए अपनी सरहदों पर आवाजाही में होने वाली रोक-टोक को समाप्त कर दिया ये देश यूरोप के शेंजेन समझौते में शामिल हो गए। इससे इनके 40 करोड़ लोग नॉवें में आर्कटिक सर्किल के पुर्तगाल के बीच बिना पासपोर्ट दिखाए स्वतन्त्रतापूर्वक आवागमन कर सकेंगे।                                                                                                


    दक्षिण अमेरिकी राष्ट्र बनाएँगे विश्व बैंक की तर्ज पर बैंक –

    छह दक्षिण अमेरिकी राष्ट्रों अर्जेंटीना, बेनेजुएला, ब्राजील, बोलिविया, इक्वाडोर और पराग्वे के राष्ट्रपतियों ने 9 दिसम्बर, 2007 को विश्व बैंक और अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की तर्ज पर दक्षिण अमेरिका में एक वैकिल्पक बैंक की शुरूआत करने के सिलसिले में एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए। इस बैंक की शुरुआत सात अरब अमेरिकी डॉलर से की गई। वेनेजुएला की राजधानी काराकस में इस बैंक का मुख्यालय होगा। अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स और बोलिविया की वैधानिक राजधानी ला पॉज में इस बैंक की एक-एक शाखा खोली गई हैं। इस बैंक का लक्ष्य दक्षिण अमेरिका के आर्थिक विकास के लिए आधारभूत संरचना और निजी क्षेत्र की परियाजनाओं को कम दरों पर वित्तीय सहायता देना है। अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसे दूसरे अन्य संस्थानों में सभी सदस्यों को वीटो पावर की सुविधा नहीं है, जबकि दक्षिण अमेरिका के इस बैंक के सारे सदस्यों को वोटो पावर की सुविधा दी गई है।              


    जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन बाली में सम्पन्न – 

    ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन पर कटौती के मामले में विश्वव्यापी सहमति कायम करने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्र संघ के तत्वावधान में वैश्विक सम्मेलन (United Nations Climate Change Conference) इण्डोनेशिया के बाली द्वीप में नूसा दुआ (Nusa Dua) में 3-14 दिसम्बर, 2007 को सम्पन्न हुआ। 190 देशों के प्रतिनिधियों, वैज्ञानिकों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस सम्मेलन में भाग लिया। ऑस्ट्रेलिया जिसकी पूर्ववर्ती कंजरवेटिव सरकार ने इस सम्मेलन के बहिष्कार की घोषणा की थी, ने भी इस सम्मेलन में जोर-शोर से भाग लिया। ऑस्ट्रेलिया के नए प्रधानमन्त्री केविन रूड स्वयं इस सम्मेलन को सम्बोधित करने वालों में शामिल थे। सम्मेलन में भागीदारी से पूर्व ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमन्त्री रूड ने क्योटो सन्धि पर हस्ताक्षर भी 3 दिसम्बर, 2007 को कार्यभार सँभालते ही किए थे। वर्ष 1997 में बनी क्योटो सन्धि से आगे की रणनीति बनाने के लिए इस सम्मेलन का आयोजन संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा किया गया था। विश्व के प्रमुख 36 औद्योगिक देशों पर लागू क्योटो सन्धि की अवधि 2012 में समाप्त हो रही है, इस सन्धि के अन्तर्गत इन 36 औद्योगिक देशों को 2008 तक ग्रीन हाउस गैसों में उत्सर्जन का स्तर क्रमशः घटाते हुए 1990 के स्तर तक लाने की जिम्मेदारी है। सम्मेलन में भारतीय शिष्टमण्डल का नेतृत्व केन्द्रीय विज्ञान मन्त्री कपिल सिब्बल ने किया था। दो सप्ताह तक चले इस सम्मेलन मे नई सन्धि तैयार करने को विकसित एवं विकासशील देशों में सहमति अन्तिम समय में ही हो सकीइस सम्बन्ध में अगली बैठक डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में वर्ष 2009 में होगी। सन्धि वर्ष 2012 में लागू होगी।                                                                 


    पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमन्त्री बेनजीर भुट्टो की हत्या - 

    आठ वर्ष के निर्वासन के पश्चात् 18 अक्टूबर, 2007 को स्वदेश लौटी पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमन्त्री बेनजीर भुट्टो की रावलपिण्डी में 27 दिसम्बर2007 को जब एक चुनावी सभा को सम्बोधित करने के बाद वह अपनी गाड़ी में सवार हुई थीं रहस्यमय परिस्थतियों में हत्या कर दी गई।                                                 


    15 सितम्बर अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस घोषित - 

    लोकतन्त्रीकरण एवं विकास को बढ़ावा देने और मानवाधिकार एवं मौलिक स्वतन्त्रता के सम्मान पर जोर देते हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 15 सितम्बर 2007 को अन्तर्राष्ट्रीय लोकतन्त्र दिवस घोषित किया है।


    नेपाल  को गणतन्त्र घोषित करने का प्रस्ताव पारित – 

    नेपाल की संसद ने संविधान सभा चुनाव के बाद नेपाल को गणतन्त्र घोषित करने का प्रस्ताव 4 नवम्बर, 2007 को पारित कर दिया। संविधान सभा के चुनाव समानुपातिक निर्वाचन प्रणाली से होंगेसत्ताधारी गठबन्धन के राजशाही के मुद्दे पर एकमत नहीं हो पाने के कारण संसद के विशेष सत्र को आगे बढ़ाया गया था। विशेष सत्र की समाप्ति के अवसर पर माओवादियों ने देश को तत्काल गणतन्त्र घोषित करने का प्रस्ताव वापस ले लिया। इसके बदले में संसद ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (यूएमएल) का वह संशोधित प्रस्ताव पारित किया, जिसमें संविधान सभा चुनाव के बाद नेपाल को गणतन्त्र घोषित करने की बात कही। पूर्ण रूप से समानुपातिक निर्वाचन प्रकिया अपनाने की माओवादियों की माँग भी संसद ने मंजूर कर ली। माओवादियों ने संसद में अपनी पार्टी के प्रस्ताव को वापर लेने और सीपीएम (यूएमएल) की ओर से पेश संशोधित प्रस्ताव को समर्थन देने की घोषणा की। हालांकि, देश की सबसे बड़ी नेपाली कांग्रेस पार्टी ने दोनों प्रस्तावों के खिलाफ मतदान किया।


    2008 विश्व पर्यावरण – 

    संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2008 को विश्व पर्यावरण स्वछता वर्ष घोषित किया है। संयूक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने इसकी घोषणा की। मौजूदा समय में दुनियाभर में 2 अरब से जादा लोगो के पास बुनियादी पर्यावरण सफाई सुविधाओं का अभाव है। विकासशील देशो में अधिकतर लोगो के लिए स्वच्छ जल भी उपलब्बध नहीं है। आंकड़ो के अनुसार दुनियाभर में हर सप्ताह 40 हज़ार से जादा लोग ख़राब पानी एवं गंदिगी के कारण उत्पन्न होने वाली बीमारियों से मौत का शिकार बन जाते है। ऐसी गंभीर स्तिथि से निपटने के लिए पुरे विश्व में स्वच्छता पर ध्यान देना बहुत ही आवश्यक है। इसी को ध्यान में रखकर वर्ष 2008 को विश्व पर्यावरण स्वच्छता वर्ष के रूप में मनाया जायेगा।

    इतिहास के 10000+ महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान 2022 | History Gk objective Question-Answer in Hindi

    इतिहास सामान्य ज्ञान 2022 | History Gk Abjective Question-Answer in Hindi

    इस पोस्ट में हमने आपको इतिहास के 10 महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान 2022 (10 Important General Knowledge of History) के बारे में बताया हैं इतिहास से अधिकांश पूछे जाने वाले सभी प्रश्न और उनके जवाब निचे दिए गये हैं |
    itihas-ke-10000-mahatwpurn-gk

    1.जिस काल का कोई लिखित विवरण उपलब्ध नहीं हो, कहा जाता हैं.  

    (अ) प्रागैतिहासिक काल 

    (ब) आद्य ऐतिहासिक काल 

    (स) प्राचीन काल 

    (डी) ऐतिहासिक काल

    उत्तर – (अ) प्रागैतिहासिक काल 

    2.आदिमानव ने सर्वप्रथम किस पशु को पालतू बनाया?

    (अ) बैल

    (ब) कुत्ता 

    (स) हाथी 

    (द) गाय  

    उत्तर - (ब) कुत्ता 

    3.आधुनिक होमोसेपियंस मानव का उदभव किस काल में हुआ?

    (अ) निम्न्पुरापाषण 

    (ब) मध्य पुरापाषण 

    (स) उच्च पुरापाषण

    (द) ताम्रपाषण 

    उत्तर - उच्च पुरापाषण

    4.मानव ने आग का प्रयोग किस काल में प्रारंभ किया?

    (अ) मध्यपाषण काल 

    (ब) नवपाषण काल  

    (स) ताम्रपाषण काल 

    (द) कास्यं काल

    उत्तर - (ब) नवपाषण काल  

    5.मानव ने सर्वप्रथम किस धातु का प्रयोग किया? 

    (अ) लोहा 

    (ब) चांदी

    (स) तांबा 

    (द) पीतल 

    उत्तर - (स) तांबा

    6.मानव द्वारा उपयोग में ली गई पहली फसल थी.

    (अ) चावल 

    (ब) जौ

    (स) गेहूं 

    (द) ये सभी 

    उत्तर - (स) गेहूं 

    7.मानव खाद्य पदार्थो का उद्पादक एवं उपभोक्ता कब बना?

    (अ) मध्यपाषण काल 

    (ब) ताम्रपाषण काल 

    (स) नवपाषण काल  

     (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 

    उत्तर - (स) नवपाषण काल  

    8.निम्न में से कोण पुरातत्वविद हड़प्पा के उत्खनन से सम्बन्धित हैं? 

    (अ) दयाराम सहनी

    (ब) आर.डी. बनर्जी 

    (स) एस.आर. राव

    (द) बी.बी. लाल 

    उत्तर – (अ) दयाराम सहनी

    9.हडपाई स्थलों में कांस्य नर्तकी की मूर्ति कहा से प्राप्त हुई है?

    (अ) हड़प्पा

    (ब) कालीबंगा 

    (स) चन्हुदड़ो 

    (द) मोहनजोदड़ो

    उत्तर - (द) मोहनजोदड़ो

    10.प्रसिद्ध पशुपति की मुहर कहा से मिली है? 

    (अ) हड़प्पा 

    (ब) लोथल 

    (स) मोहनजोदड़ो

    (द) रंगपुर 

    उत्तर - मोहनजोदड़ो

    इतिहास के 10000+ महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान 2022 निचे दिए गए अन्य टॉपिक में इतिहास से जुड़े सभी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी देखें -

    और पढ़ें -  

    1. मुगल काल से संबंधित महत्वपूर्ण जीके
    2. राष्ट्रीय आंदोलन की महत्वपूर्ण तिथियां
    3. एशिया - एक नजर में
    4. 1-100 हिन्दी English Ordinal and Roman गिनती Chart List
    5. दुनिया के प्रसिद्ध और जाने माने वैज्ञानिक
    6. विभिन्न भाषाओं के महान कवि और लोकप्रिय कवि
    7. GK Question Answer in Hindi 2022
    8. संविधान और राजव्यवस्था जनरल नॉलेज - PART 3
    9. संविधान और राजव्यवस्था जनरल नॉलेज - PART 2
    10. संविधान और राजव्यवस्था जनरल नॉलेज - PART 1
    11. बौद्ध धर्म सामान्य अध्ययन के वन लाइनर प्रश्न उत्तर
    12. भारतीय राज्यों के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल
    13. भारत के सभी राष्ट्रीय प्रतीकों की पूरी जानकारी
    14. भारत में प्रथम पुरुषों की सूची
    15. भारत के सभी राष्ट्रीय प्रतीकों की पूरी सूची
    16. उत्तर प्रदेश के महान व्यक्तित्व
    17. दुनियाभर के वैज्ञानिकों की सूची
    18. धातु और उनके यौगिक
    19. प्रमुख वैज्ञानिक उपकरण लिस्ट एवं उनके कार्य
    20. विज्ञान और गणित का इतिहास देखें
    21. पर्यावरण कानून और अधिनियम
    22. भारत की महान और उपलब्धियां प्राप्त महिलाओं की सूची
    23. जाने दुनिया भर के पवित्र स्थलों के बारे में
    24. 200 देशों का जनसंख्या लिस्ट
    25. उप राष्ट्रपति- श्री मुप्पावारापु वेंकैया नायडु जीवन परिचय
    26. राष्ट्रपति- श्री रामनाथ कोविंद का परिचय
    27. Engineering Trades And Non-Engineering Trades List
    28. हिमालय पर्वत का महत्व
    29. One Liner Gk Question Answer In Hindi | महाद्वीप
    30. 21 रोचक तथ्य | डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन
    31. भारत के प्रमुख प्राचीन अधिनियम
    32. सम्राट अशोक के बारे में 40 रोचक तथ्य
    33. भारत की सभी नदियों की विस्तृत जानकारी
    34. विश्व की प्राचीन सभ्यताएं
    35. सिंधुघाटी सभ्यता की व्यवस्था
    36. उत्तर वैदिक काल और धार्मिक व्यवस्था
    37. भारत के प्रमुख दर्रे | सभी दर्रो की जानकारी
    38. भारत के प्रमुख पर्यटन स्थल
    39. ऋग्वैदिक काल - 46 महत्वपूर्ण बातें
    40. भारत का भूगोल | 30 बातें
    41. बौद्ध धर्म से जुड़े कुछ रोचक तथ्य
    42. जाने अंतरिक्ष के रोचक तथ्य
    43. सूर्य के बारे में आश्चर्यजनक और रोचक बातें
    44. डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के बारे में 21 रोचक तथ्य
    45. सम्राट अशोक के बारे में 40 रोचक तथ्य
    46. सिकन्दर का भारत विजय अभियान - 32 रोमांचक बातें
    47. ऋग्वैदिक काल की 46 महत्वपूर्ण बातें
    48. गंगा नदी के 40 रोचक और अद्भुत तथ्य
    49. 10 अनोखे और अमेजिंग सवालो के जवाब
    50. इतिहास से जुड़े रोचक तथ्य
    51. मनुष्य के शरीर के संबंध में कुछ आवश्यक रोचक
    52. नोबेल पुरस्कार के बारे में रोचक जानकारी
    53. भारत के बारे में 100 रोचक तथ्‍य

    20+ भारतीय संविधान सामान्य ज्ञान 2022 (Indian Constitution General Knowledge pdf)

    भारतीय संविधान से जुड़े हुए कुछ प्रश्न उत्तर ( Question Answer related with Indian Constitution General Knowledge ) 

    हेलो दोस्तों, इस आर्टिकल  में भारतीय संविधान सामान्य ज्ञान 2022 के बारे में जानेंगे। प्रत्येक प्रजातान्त्रिक देश का अपने एक संविधान होता है चूँकि भारत एक प्रजातांत्रिक देश है इसलिए भारत का अपना एक सांविधान है। भारतीय संविधान को बनने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा था। शासन को सुचारू रूप से चलाने के लिए संविधान बनाया गया है। भारतीय संविधान  से जुड़े प्रश्न विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे-UPSC,STATE PCS,SSC,RRB,NTPC,RAILWAY, BANKING PO,BANKING CLERK NET/JRF इत्यादि में पूछे जाते हैं।

    20-indian-constitution-general

    प्रश्न -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना का प्रस्ताव किस के द्वारा पेश किया गया था ?

    उत्तर -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना का प्रस्ताव पंडित जवाहर लाल नेहरू जी के द्वारा पेश किया गया था। इसे ‘उद्देश्य प्रस्ताव’ के नाम से जाना जाता है। यह प्रस्ताव 13 दिसंबर 1946 को लाया गया था। तथा संविधान सभा ने इस प्रस्ताव को 22 जनवरी 1947 को स्वीकार कर लिया।

    प्रश्न -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना को संविधान का परिचय पत्र किसने कहा है ?

    उत्तर -: प्रसिद्ध न्यायविद तथा संवैधानिक विशेषज्ञ एन. ए. पालकीवाला ( नानाभोय ‘नानी’ अर्देशिर पालकीवाला )

    प्रश्न -: संविधान की कुंजी किसे कहा जाता है ?

    उत्तर -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना को

    प्रश्न :-“समाजवादी, पंथनिरपेक्ष और अखंडता” शब्दों को किस संविधान संशोधन द्वारा भारत की प्रस्तावना में जोड़ा गया ?

    उत्तर -: 42वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1976 ई. द्वारा

    प्रश्न:- भारत के संविधान की प्रस्तावना किन शब्दों से शुरू होती है ?

    उत्तर:- हम, भारत के लोग

    प्रश्न :- संविधान दिवस कब मनाया जाता है ?

    उत्तर :- 26 नवंबर

    प्रश्न :- भारतीय संविधान की प्रस्तावना में संशोधन कब किया गया था ?

    उत्तर :- सन् 1976 में, 42वें संविधान संशोधन अधिनियम के द्वारा

    प्रश्न -: भारत की प्रस्तावना की भाषा किस देश के संविधान से ली गई है ?

    उत्तर -: ऑस्ट्रेलिया

    क्लिक करे :-  संविधान और राजव्यवस्था सामान्य ज्ञान 

    प्रश्न -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना का विचार किस देश के संविधान से लिया गया है ?

    उत्तर -: अमेरिका

    Indian Constitution GK in Hindi

    प्रश्न -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना के अनुसार संविधान की सर्वोच्च शक्ति किस में निहित है ?

    उत्तर -: भारत की जनता ( हम, भारत के लोग )

    प्रश्न -: भारतीय संविधान का उद्देश्य बताने वाले वे शब्द कौन से हैं जो भारत की प्रस्तावना में लिखे हुए हैं ?

    उत्तर -: भारत की प्रस्तावना में लिखे हुए वे शब्द, जो भारतीय संविधान का उद्देश्य बताते हैं। निम्नलिखित हैं।

    • न्याय
    • स्वतंत्रता
    • समता
    • गरिमा
    • एकता
    • अखंडता
    • बंधुता

    प्रश्न -: भारतीय संविधान की प्रस्तावना में कितने प्रकार के न्याय का उल्लेख है ?

    उत्तर -: तीन प्रकार के न्याय ( सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक )

    क्लिक करे :-  संविधान और राजव्यवस्था महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान

    प्रश्न -: भारत की प्रस्तावना में कितने प्रकार की स्वतंत्रता का उल्लेख किया गया है ?

    उत्तर -: पांच प्रकार की स्वतंत्रता ( विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म व उपासना )

    प्रश्न -: भारत की प्रस्तावना में कितने प्रकार की समानता का उल्लेख किया गया है ?

    उत्तर -: दो प्रकार की समता ( प्रतिष्ठा और अवसर )

    प्रश्न -: भारत की प्रस्तावना के अनुसार वे कौन से शब्द हैं जो भारत की प्रकृति या भारत की अवधारणा के बारे में उल्लेख करते हैं ?

    उत्तर -: भारत की प्रस्तावना के अनुसार निम्नलिखित शब्द भारत की प्रकृति के बारे में बताते हैं।

    • सम्पूर्ण प्रभुत्व संपन्न
    • समाजवादी
    • पंथनिरपेक्ष
    • लोकतंत्रात्मक
    • गणराज्य
    आज के इस आर्टिकल में हमने भारतीय संविधान के सामान्य ज्ञान के प्रश्नों के बारे में जाना। भारतीय संविधान के सामान्य ज्ञान के प्रश्नों का यह संग्रह विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रखकर लिखा गया है जिससे कम समय में आप अधिक उपयोगी चीजों को पढ़ सकें।

    आशा करता हूँ कि भारतीय संविधान का यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगी ,यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आये तो इस आर्टिकल को शेयर जरुर करें। 

    30+ रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य (Facts about Reserve Bank of India in hindi)

    30+ Facts about Reserve Bank of India

    नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया(RBI) से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य के बारे में जानेंगे। रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य से जुड़े ये प्रश्न कई परीक्षा में भी पूछे जा चुके हैं इसलिए आपको RBI से जुडी इन सभी पॉइंट को अच्छे से पढना चाहिए और नोट करके भी रखना चाहिए। 

    क्या आप  RBI के बारे में  जानते है ? अगर नहीं  जानते है तो आज हम आपको  RBI के बारे में कुछ ऐसे महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले है जो आपको  प्रतियोगिता परीक्षा दिलाने में बहुत मदद करेगी | तथा RBI का पूरा नाम "रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया" है | यह देश का केन्द्रीय बैंक है |

    30-facts-about-reserve-bank-of-india-in

    प्रश्न -: भारत में किस कमीशन की रिपोर्ट पर केंद्रीय बैंक की स्थापना की गई ?

    उत्तर -: भारत में चैम्बरलिन कमीशन ने 1914 में अपनी रिपोर्ट में बताया कि 3 प्रेसीडेंसी बैंकों को मिलाकर एक केंद्रीय बैंक की स्थापना की जाए। इसी रिपोर्ट की संस्तुति पर ही 1921 में इंपीरियल बैंक की स्थापना की गई।


    प्रश्न -: किस आयोग ने केंद्रीय बैंक के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ( reserve Bank of India ) नाम का सुझाव दिया ?

    उत्तर -: सन् 1926 में हिल्टन यंग आयोग (रॉयल कमीशन ऑन इंडियन करेंसी एंड फाइनेंस) ने ही पहली बार केंद्रीय बैंक के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ( Reserve Bank of India ) नाम की संस्तुति की।


    प्रश्न -: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया ( RBI ) की स्थापना किस अधिनियम के तहत की गई थी?

    उत्तर -: भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India) की स्थापना “भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934” के प्रावधानों के अनुसार की गई थी।


    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई थी?

    उत्तर -: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना 1 अप्रैल 1935 को हुई थी।


    प्रश्न -: आरबीआई की स्थापना के समय कितनी अधिकृत पूंजी केंद्रीय बैंक के पास थी ?

    उत्तर -: 1935 में इसकी शुरुआत एक निजी बैंक के रूप में हुई थी। आरबीआई (RBI) की स्थापना के समय इसकी अधिकृत पूंजी 5 करोड़ रुपए थी। तब लगभग संपूर्ण पूंजी निजी लोगों के हाथ में थी।


    प्रश्न -: प्रारम्भ में रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया का कार्यालय कहां स्थापित किया गया था ?

    उत्तर -: प्रारंभ में भारतीय रिज़र्व बैंक ( reserve Bank of India ) का कार्यालय कोलकाता में स्थापित किया गया था।


    प्रश्न -: वर्तमान में आरबीआई का कार्यालय कहां स्थित है ?

    उत्तर -: वर्तमान में आरबीआई ( rbi ) का कार्यालय मुंबई में स्थित है। सन् 1937 में इसे कोलकाता से मुंबई स्थानान्तरित कर दिया गया था।


    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक ( reserve Bank of India ) ने किन और देशों के केंद्रीय बैंक के रूप में कार्य किया था ?

    उत्तर -: स्वतंत्रता के बाद भी जून 1948 तक भारतीय रिज़र्व बैंक ने पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक के रूप में काम किया। आरबीआई ने ( rbi ) म्यांमार (बर्मा) सरकार के बैंकर के रूप में भी कार्य किया।

    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक के प्रथम गवर्नर कौन थे ? (first governer of reserve bank of india in hindi)

    उत्तर -: सर आस्बॉर्न स्मिथ भारतीय रिजर्व बैंक के प्रथम गवर्नर थे।


    प्रश्न -: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के प्रथम भारतीय गवर्नर कौन थे ? (first indian governer of reserve bank of india in hindi)

    उत्तर -: सी. डी. देशमुख, आरबीआई ( rbi ) के तीसरे गवर्नर थे। यह प्रथम भारतीय गवर्नर तथा स्वतंत्र भारत के पहले आरबीआई गवर्नर थे।


    RBI Gk Question Answer 2022


    प्रश्न -: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया का राष्ट्रीयकरण कब हुआ था ?

    उत्तर -: सी. डी. देशमुख के कार्यकाल में ही 1-1-1949 को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का राष्ट्रीयकरण हुआ।

    क्लिक करे :-  भारत के झील सम्बन्धी महत्त्वपूर्ण तथ्य  

    प्रश्न -: बैंकों के राष्ट्रीयकरण के समय भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर कौन थे ?

    उत्तर -: 1969 में बैंकों के राष्ट्रीयकरण के समय एल. के. झा भारतीय रिजर्व बैंक ( reserve Bank of India ) के गवर्नर थे।


    प्रश्न -: आरबीआई का प्रतीक चिन्ह क्या है ?

    उत्तर -: आरबीआई RBI का आधिकारिक प्रतीक चिन्ह – ताड़ का पेड़ और बाघ है। इसे ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रतीक चिन्ह से लिया गया है


    प्रश्न -: क्या आरबीआई सामान्य बैंकिंग कार्य करता है?

    उत्तर -: आरबीआई (RBI) सामान्य बैंकिंग व्यवसाय नहीं करता है।


    प्रश्न -: आरबीआई का पूर्ण स्वामित्व किस के पास है ?

    उत्तर -: वर्तमान में आरबीआई (RBI) का पूर्ण स्वामित्व भारत सरकार के पास है।


    प्रश्न -: भारतीय रिज़र्व बैंक की पहली महिला डिप्टी गवर्नर कौन थीं ?

    उत्तर -: के.जे. उडेशी भारतीय रिज़र्व बैंक की पहली महिला डिप्टी गवर्नर बनी। इन्हें 2003 में इस पद पर नियुक्त किया गया।


    प्रश्न -: भारत के सोना और विदेशी मुद्रा भंडार की देख रेख कौन करता है ?

    उत्तर -: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भारत के राष्ट्रीय सोना और विदेशी मुद्रा भंडार की देख – रेख करता है।


    प्रश्न -: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में भारत का सरकारी प्रतिनिधि कौन होता है ?

    उत्तर -: भारतीय रिजर्व बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ( IMF) में सरकारी प्रतिनिधि के रूप में कार्य करता है।

    क्लिक करे :-  नोबेल पुरस्कार के बारे में रोचक तथ्य 

    प्रश्न -: वाणिज्यिक बैंकों को कौन ऋण प्रदान करता है ?

    उत्तर -: वाणिज्यिक बैंकों को भारतीय रिजर्व बैंक सस्ते दर पर ऋण प्रदान करती है। 


    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक (reserve Bank of India ) के आंचलिक कार्यालय कितने हैं ?

    उत्तर -: भारतीय रिज़र्व बैंक के चार आंचलिक कार्यालय (Zonal Office) हैं। जो चेन्नई, नई दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में स्थित हैं।


    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक के कितने क्षेत्रीय कार्यालय हैं ?

    उत्तर -: भारतीय रिजर्व बैंक के इसके अलावा 27 क्षेत्रीय कार्यालय (Regional office) और 4 उप-कार्यालय (Sub-Office) हैं।


    प्रश्न -: भारतीय रिजर्व बैंक का कामकाज किसके द्वारा निर्देशित किया जाता है ?

    उत्तर -: भारतीय रिज़र्व बैंक का कामकाज केन्द्रीय निदेशक बोर्ड द्वारा निर्देशित होता है। आरबीआई ( rbi ) के केन्द्रीय निदेशक बोर्ड के सदस्यों की नियुक्ति भारत सरकार द्वारा की जाती है। और यह नियुक्ति चार सालों के कार्यकाल लिए की जाती हैं।

    प्रश्न -: करेंसी नोटों की छपाई किस के नियंत्रण में की जाती है ?

    उत्तर -: भारतीय रिज़र्व बैंक अपने नियंत्रण में करंसी नोटों की छपाई करवाता है।


    प्रश्न -: एक रुपए के नोट और सिक्कों का निर्माण किस के द्वारा किया जाता है ?

    उत्तर -: एक रुपए के नोट और सिक्‍कों के निर्माण का काम भारत सरकार द्वारा किया जाता है।


    प्रश्न -: भारत में नए नोटों और सिक्कों का वितरण किस के द्वारा किया जाता है ?

    उत्तर -: एक वितरणकर्ता एजेंसी के रूप में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया अपने द्वारा तथा भारत सरकार के वित्त मंत्रालय द्वारा निर्गमित नोटों और सिक्कों का वितरण करता है। आरबीआई सरकार को मौद्रिक नीति और राजकोषीय नीति पर सलाह देती है।


    प्रश्न -: सरकार के बैंकर के रूप में कौन कार्य करता है ?

    उत्तर -: आरबीआई सरकार के बैंकर के रूप में कार्य करता है। भारतीय रिज़र्व बैंक सरकार के ऋण का प्रबंधन, सरकारी प्रतिभूतियों का क्रय – विक्रय आदि कार्य करता है।


    प्रश्न -: भारत में अंतिम समय का बैंक किस को कहा जाता है ?

    उत्तर -: आपातकालीन परिस्थितियों में आरबीआई ( rbi ) अंतिम समय का बैंक ( Lender of the Last Resort ) के रूप में काम करता है। इसके अंतर्गत प्रतिभूतियों के आधार पर ऋण प्रदान करके आर्थिक सहायता करता है।


    RBI Gk Question Answer 2022

    1. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के कार्य
    2. भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई थी
    3. भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम
    4. रिजर्व बैंक की स्थापना किसने की
    5. रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण कब हुआ
    6. भारतीय रिजर्व बैंक कहां है


    भारतीय रिजर्व बैंक ( Reserve Bank of India ), बैंकिंग तंत्र का शीर्षतम संस्थान है। आरबीआई (RBI) का मुख्य उद्देश्य लाभ कमाना नहीं होता है। इसका आम जनता के साथ सीधा संबंध नहीं होता है। आरबीआई (RBI) ज्यादातर बैंकों के बैंकर, वित्तीय सलाहकार और सरकार के प्रतिनिधि के रूप में काम करता है।


    आरबीआई के उद्देश्य क्या है? 

    संधारणीय आर्थिक वृद्धि के अनुरूप मौद्रिक और वित्तीय स्थिरता को प्रोत्साहन देना और एक सक्षम तथा समावेशी वित्तीय प्रणाली का विकास सुनिश्चित करना। देश के संतुलित, समान और संधारणीय आर्थिक विकास में सहयोग देना।

    क्लिक करे :- भारत के बारे में 100 रोचक तथ्‍य 

    आरबीआई का फुल फॉर्म क्या है?

    RBI (आरबीआई) ka full form: Reserve Bank of India (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया)


    इस आर्टिकल में हमने रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य के बारे में विस्तृत रूप से जाना। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं। 

    उम्मीद करता हूँ कि रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया की यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी,यदि आपको पोस्ट अच्छी लगी हो तो पोस्ट को शेयर अवश्य करें।

    भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल – Major Historical Place of India

    भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल – Major Historical Place of India 

    नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट में भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल के बारे में जानेंगे। भारत के ये ऐतिहासिक स्थल भारत की संस्कृति तथा सभ्यता को प्रदर्शित करते हैं। इसलिए इन ऐतिहासिक स्थलों के बार एमे हमें जरुर पता होना चाहिए।अगर आप सभी प्रमुख ऐतिहासिक स्थल के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट में शेयर किये गए पीडीऍफ़ नोट्स को डाउनलोड करके अध्ययन अवश्य करें।

    आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल  (Major Historical Place of India)  नोट्स शेयर करेंगे।

    Major Historical Place of India 


    भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल PDF

    भारतीय के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल का नाम और उसका वर्तमान स्थान-
     
    ऐतिहासिक स्थल का नामवर्तमान स्थान
    इंडिया गेट नई दिल्ली
    काँचीपुरम का मंदिर चेन्नई (तमिलनाडु)
    अजंता की गुफाएं औरंगाबाद (महाराष्ट्र)
    गेटवे ऑफ इंडिया मुंबई (महाराष्ट्र)
    मदन महल जबलपुर (मध्यप्रदेश)
    धार का किला धार (मध्यप्रदेश)
    चरार-ए-शरीफ श्रीनगर (जम्मू कश्मीर)
    राष्ट्रपति भवन दिल्ली
    तुगलकाबाद दिल्ली
    नाहरगढ़ फोर्ट जयपुर (राजस्थान)
    मृगनयनी का महल ग्वालियर (मध्यप्रदेश)
    सहेलियों की बाड़ी उदयपुर (राजस्थान)
    कोचीन का किला एर्नाकुलम (केरल)
    लाल किला दिल्ली
    चश्माशाही श्रीनगर (उत्तर प्रदेश)
    ताजमहल आगरा (उत्तर प्रदेश)
    सांची का स्तूप रायसेन (मध्यप्रदेश)
    उम्मेद भवन जोधपुर (राजस्थान)
    आगरा फोर्ट आगरा (उत्तर प्रदेश)
    जहाँगीर महल आगरा (उत्तर प्रदेश)
    शालीमार बाग श्रीनगर (जम्मू-कश्मीर)
    सुख निवास बूंदी (राजस्थान)
    जामा मस्जिद दिल्ली
    मक्का मस्जिद दिल्ली
    हावड़ा ब्रिज कोलकाता (पश्चिम बंगाल)
    नटराज मंदिर चेन्नई (तमिलनाडु)
    हैंगिंग गार्डन मुंबई (महाराष्ट्र)
    टावर ऑफ लाइसेंस मुंबई(महाराष्ट्र)
    रणथम्भौर का किला सवाईमाधोपुर (राजस्थान)
    द्वारका काठियावाड़ (गुजरात)
    बोटनिकल गार्डन शिवपुर (पश्चिम बंगाल)
    काँचीपुरम का मंदिर चेन्नई (तमिलनाडु)
    हज़रत बल मस्जिद श्रीनगर (जम्मू कश्मीर)
    फतह सागर उदयपुर (राजस्थान)
    जय समंद उदयपुर (राजस्थान)
    डीग महल डीग (राजस्थान)
    विक्टोरिया मेमोरियल कोलकाता (पश्चिम बंगाल)
    नाखुदा मस्जिद कोलकाता (पश्चिम बंगाल)
    छत्र महल बूंदी (राजस्थान)
    रानी की बाड़ी बूंदी (राजस्थान)
    टीपू का महल बैंगालुरू (कर्नाटक)
    लाल बाग़ बैंगालुरू (कर्नाटक)
    बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ (उत्तर प्रदेश)
    छोटा इमामबाड़ा लखनऊ (उत्तर प्रदेश)
    पंचमहल फतेहपुर सीकरी (उ. प्र.)
    जलमिन्दर पावापुरी (बिहार)
    महाकालेश्वर का मंदिर उज्जैन (मध्यप्रदेश)
    हवामहल जयपुर (राजस्थान)
    आमेर का किला जयपुर (राजस्थान)
    वेलूर मठ कोलकाता (पश्चिम बंगाल)


    1.इण्डिया गेट-  इण्डिया गेट (मूल रूप से अखिल भारतीय युद्ध स्मारक कहा जाता है), नई दिल्ली के राजपथ पर स्थित ४२ मीटर ऊँचा विशाल means है। यह स्वतन्त्र भारत का राष्ट्रीय स्मारक है, जिसे पूर्व में किंग्सवे कहा जाता था। इसका डिजाइन सर एडवर्ड लुटियन्स ने तैयार किया था। यह स्मारक पेरिस के आर्क डे ट्रॉयम्फ़ से प्रेरित है। इसे सन् १९३१ में बनाया गया था।

    भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल – Major Historical Place of India PDF


    ऐतिहासिक स्थल कौन कौन से हैं?

    भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल- 
    • ताज महल, आगरा
    • कुतुब मीनार, दिल्ली
    • लाल किला, दिल्ली
    • हुमांयू का मकबरा
    • फतेहपुर सीकरी
    • हवा महल, जयपुर
    • खजुराहो मंदिर
    • सांची स्तूप

    भारत का क्या ऐतिहासिक महत्व है?

    यहां मध्य कालीन भारत से जुड़े अनको स्थल है फिर चाहें वह दिल्ली का कुतुबमीनार, हुमायु तुंब एवं लालकिला हो या आगरा का ताजमहल, अंजता की प्राचीन गुफाओं से लेकर वर्तमान के इंडिया गेट तक ऐसी कई प्राचीन और नवीनतम ऐतिहासिक इमारतें, झरने, मंदिर एवं गुफाएं भारत में स्थित हैं जो भारत को एक अतुल्य भारत का दर्जा प्रदान करती हैं।

    Your Queries Solve in This Page

    1. भारत के मानचित्र में ऐतिहासिक स्थल
    2. भारत के पर्यटन स्थल PDF
    3. ऐतिहासिक स्थल के नाम
    4. भारत के विभिन्न राज्यों के ऐतिहासिक स्थलों के नाम
    5. 20 इमारतों के नाम
    6. ऐतिहासिक स्थल का वर्णन
    7. प्रमुख स्थलों के नाम
    8. प्राचीन स्थलों के नाम

    Major Historical Place of India 

    उम्मीद है की आपको भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल – Major Historical Place of India PDF जानकारी पसंद आयी होगी भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल की इस जानकारी को शेयर जरुर करें | क्योंकि भारत के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल से जुडी कई प्रश्न परीक्षा में पूछे जाते हैं। 


    इंडिया गेट के बारे में (All About India Gate)

    इंडिया गेट के बारे में | All About India Gate Delhi | महत्वपूर्ण जानकारी |

    दोस्तों आज के पोस्ट में हम लेकर आये हैं इंडिया गेट के बारे में इंडिया गेट से जुड़ी सभी सवालों के जवाब साथ India Gate Facts आपको आज बतायेंगे | भारत की एक ऐतिहासिक धरोहर के बारे में आज आपको पूरी जानकारी दी जाएगी जैसे की भारत का इंडिया गेट कब बनाया गया थाइंडिया गेट (India Gate) पर क्या लिखा है? इंडिया गेट कहां है, इंडिया गेट दिल्ली का, इंडिया गेट कहां है दिल्ली या मुंबई, इंडिया गेट की ऊंचाई कितनी है,इंडिया गेट (India Gate)  की दीवारों पर क्या लिखा है,इंडिया गेट का नाम 26 जनवरी गेट भी है इंडिया गेट खुला है या बंद है 2022 आदि जानकारी | स्वतन्त्रता के पश्चात् इण्डिया गेट भारतीय सेना के अज्ञात सैनिकों के मकबरे की साइट मात्र बनकर रह गया है।

    All About India Gate Delhi

    इंडिया गेट कब बनाया गया था ?

    इण्डिया गेट, (मूल रूप से अखिल भारतीय युद्ध स्मारक कहा जाता है), नई दिल्ली के राजपथ पर स्थित 42 मीटर ऊँचा विशाल means है। यह स्वतन्त्र भारत का राष्ट्रीय स्मारक है, जिसे पूर्व में किंग्सवे कहा जाता था। इसका डिजाइन सर एडवर्ड लुटियन्स ने तैयार किया था। यह स्मारक पेरिस के आर्क डे ट्रॉयम्फ़ से प्रेरित है। इंडिया गेट (India Gate) सन् 1931 में बनाया गया था।

    इंडिया गेट पर क्या लिखा है?

    इंडिया गेट (India Gate) समर्पण में अधिकांश स्थान-नाम प्रथम विश्व युद्ध में ऑपरेशन के थिएटर थे, लेकिन तीसरा एंग्लो-अफगान युद्ध भी एकल है। कॉमनवेल्थ वॉर ग्रेव्स कमीशन के अनुसार, व्यक्तिगत भारतीय सैनिकों के नाम - उनमें से 13,000 से अधिक - स्मारक पर छोटे अक्षरों में अंकित हैं ।

    इंडिया गेट किसने और कब बनवाया?

    स्मारक में 13,516 से अधिक ब्रिटिश और भारतीय सैनिकों के नाम हैं जो पश्चिमोत्तर सीमांत अफगान युद्ध 1919 में मारे गए थे। इंडिया गेट की आधारशिला उनकी रॉयल हाइनेस, ड्यूक ऑफ कनॉट ने 1921 में रखी थी और इसे एडविन लुटियन ने डिजाइन किया था। स्मारक को 10 साल बाद तत्कालीन वायसराय लॉर्ड इरविन ने राष्ट्र को समर्पित किया था।

    इंडिया गेट किस चीज से बना है?

    इंडिया गेट (India Gate) बलुआ पत्थर से निर्मित, यह 42 मीटर ऊंचा गेट राष्ट्रीय राजधानी में अपनी तरह का पहला था। 1919 के अफगान युद्ध में नॉर्थवेस्टर्न फ्रंटियर में मारे गए 13,516 सैनिकों के अलावा गेटवे की दीवारों पर प्रथम विश्व युद्ध में शहीद हुए भारतीय सेना के 90,000 सैनिकों के नाम अंकित हैं।

    All About India Gate


    इंडिया गेट बनना कब शुरू हुआ था?

    इंडिया गेट (India Gate)  का निर्माण वर्ष 1921 में शुरू हुआ, ड्यूक ऑफ कनॉट ने 10 फरवरी 1921 को युद्ध स्मारक की आधारशिला रखी और स्मारक का उद्घाटन 12 फरवरी 1931 को भारत के वायसराय लॉर्ड इरविन द्वारा किया गया।

    इंडिया गेट फोटो -


    India Gate PHOTO

    इंडिया गेट फोटो -

    इंडिया गेट फोटो -



    इंडिया गेट फोटो -


    इंडिया गेट की ऊंचाई कितनी है?

    इंडिया गेट की ऊंचाई की बात करें तो यह 42 मीटर है और इसे बनाने में 10 साल लगे थे.


    इंडिया गेट की आधारशिला उनकी रॉयल हाइनेस, ड्यूक ऑफ कनॉट ने 1921 में रखी थी और इसे एडविन लुटियन ने डिजाइन किया था। स्मारक को 10 साल बाद तत्कालीन वायसराय लॉर्ड इरविन ने राष्ट्र को समर्पित किया था।

    नाइटफॉल के दौरान, इंडिया गेट (India Gate)  नाटकीय रूप से बाढ़ से घिरा हुआ है, जबकि पास के फव्वारे रंगीन रोशनी के साथ एक सुंदर प्रदर्शन करते हैं। इंडिया गेट राजपथ के एक छोर पर स्थित है, और इसके आसपास के क्षेत्र को आमतौर पर ‘इंडिया गेट’ के रूप में जाना जाता है। 

    इंडिया गेट फोटो -

    दिल्ली की कई महत्वपूर्ण सड़कें इण्डिया गेट के कोनों से निकलती हैं। रात के समय यहाँ मेले जैसा माहौल होता है

    यहाँ हमने जाना इंडिया गेट के बारे में के बारे इंडिया गेट से जुडी जरुरी और बार बार पूछे जाने वाले सवालों और उनके जवाब के बारे आशा करते हैं आपको यह इंडिया गेट (India Gate) के बारे में दी गयी सभी जानकारी पसंद आई होगी और आपके लिए उपयोगी साबित होगी | 

    आपसे निवेदन हैं की इस इंडिया गेट की जानकारी को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में शेयर जरुर करें | 

    FAQs

    1.इंडिया गेट कहां है।

    इंडिया गेट (India Gate) भारत की राजधानी दिल्ली शहर में स्थित है। यह स्थान राष्ट्रपति भवन से लगभग 2.3 किलोमीटर दूर औपचारिक मुख्य मार्ग, राजपथ के पूर्वी छोर पर है | इंडिया गेटे देखने में बहुत ही सुंदर है जो एक युद्ध स्मारक है।

    2.इंडिया गेट की ऊंचाई कितनी है

    इंडिया गेट की ऊंचाई की बात करें तो यह 42 मीटर है

    3.इंडिया गेट की दीवारों पर क्या लिखा है?

    कॉमनवेल्थ वॉर ग्रेव्स कमीशन के अनुसार, व्यक्तिगत भारतीय सैनिकों के नाम - उनमें से 13,000 से अधिक - स्मारक पर छोटे अक्षरों में अंकित हैं ।

    4.इंडिया गेट खुला है या बंद है 2022

    पहले कोरोना के समय में बंद था पर अभी खुला हैं |  इंडिया गेटे देखने में बहुत ही सुंदर है जो एक युद्ध स्मारक है।

    5.इंडिया गेट कहां है दिल्ली या मुंबई

    दिल्ली में राष्ट्रपति भवन से लगभग 2.3 किलोमीटर दूर औपचारिक मुख्य मार्ग, राजपथ के पूर्वी छोर पर है 


    इस पोस्ट में हमने इण्डिया गेट के बारे में विस्तृत रूप से जाना कि इंडिया गेट कब बनाया गया थाइंडिया गेट (India Gate) पर क्या लिखा है? इंडिया गेट कहां है, इंडिया गेट दिल्ली का, इंडिया गेट कहां है दिल्ली या मुंबई, इंडिया गेट की ऊंचाई कितनी है इत्यादि।

    आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी,अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी हो तो पोस्ट को शेयर अवश्य करें।